मुजफ्फरपुर, जेएनएन। गर्मी की धमक के साथ बच्चों के लिए काल बनकर आने वाली एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम (एईएस) एईएस से बचाव के लिए निर्णायक 'जंग' को चिकित्सक व पारा मेडिकल स्टाफ प्रशिक्षित होंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय के बुलावे पर छह सदस्यीय टीम ट्रेनिंग पाने दिल्ली जाएगी। 17 फरवरी से लेकर सात मार्च तक आयोजित प्रशिक्षण में एम्स व अन्य अस्पतालों की आइसीयू में हो रहे बच्चों के इलाज को येे देंखे्रंगे। वहीं 22 फरवरी को जुब्बा सहनी पार्क के पास एक निजी होटल के सभागार मेें राज्यस्तरीय कार्यशाला का आयोजन भी किया जाएगा।

प्रशिक्षण के लिए किया विरमित

सिविल सर्जन कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार सदर अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ.अभिषेक तिवारी, परिचारिका आशा कुमारी, प्रिया कुमारी, सुमन कुमारी, रुक्मिणी और सुमन प्रशिक्षु टीम में शामिल हैं। शुक्रवार को सदर अस्पताल अधीक्षक कार्यालय की ओर से प्रशिक्षण के लिए इन्हें विरमित कर दिया गया।

सिविल सर्जन डॉ.एसपी सिंह ने कहा कि एईएस से बचाव के लिए गर्मी से पहले सारी तैयारी पूरी की जा रही है। चिकित्सक व कर्मी को गहन चिकित्सा कक्ष का प्रशिक्षण मिल रहा है।

एईएस का साल-दर-साल प्रकोप

साल---मरीज--मौत--चंगा

2010-----71---27---44

2011----149---55---94

2012----463---184--279

2013----171---62---109

2014---865----162---703

2015---97----20------77

2016----47---09-----38

2017----49----21----28

2018----50-----15---35

2019----610----167---443

 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस