दरभंगा, जेएनएन। जिला युवा जदयू के महासचिव मो. शैफ उर्फ मुन्ना की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। बदमाशों ने घटना को अंजाम देते शव सहित उनकी स्कार्पियो गाड़ी को उड़ा लिया था। इसको लेकर पूरे दिन हाई-वोल्टेज ड्रामा चलता रहा। कई तरह के कयास लगाए जाने लगे। लेकिन, देर शाम पुलिस ने शव और गाड़ी को बरामद कर चालक को दबोच लिया।

 एसएसपी बाबू राम ने बताया कि इस घटना को अंजाम देने में मृतक के चालक रिजवान खां का हाथ था, जिसे गिरफ्तार कर लिया गया है। उसने अपना अपराध कबूल कर लिया। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने स्कार्पियो सहित लाश को अब्दुल्ला चौक, रघपुरा से बरामद लिया है। पूछताछ में चालक ने बताया कि मृतक के गांव के ही अमीरुल और शमीम ने उसकी मिलीभगत से घटना को अंजाम दिया। पूर्व से परिचित होने के कारण मृतक ने दोनों के लिफ्ट मांगने पर अपनी गाड़ी में बैठाया। इसके बाद पूर्व निर्धारित योजना के अनुसार एपीएम थाना के होरलपट्टी के पास उसे गोली मार दी।

 दोनों बदमाशों ने चालक की मदद से गाड़ी सहित शव को अब्दुल्ला चौक के पास छिपा दिया। इसके बाद चालक वापस आकर मृतक को गोली मारने और शव सहित गाड़ी को सोनकी ओर ले जाने की नाटक रचकर पुलिस और परिजनों को गुमराह करने लगा। एसएसपी राम ने बताया कि इस घटना में और अभियुक्तों की संलिप्ता की जांच की जा रही है। दोनों फरार बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

बता दें कि मृतक हायाघाट थाना क्षेत्र के ओलियाबाद निवासी मो. बसीर के पुत्र व जदयू नेता मो. शैफ उर्फ मुन्ना अपनी स्कार्पियो बीआर07पी-0786 से चालक के साथ घर से निकले थे। परजिनों के अनुसार, उनके पास चार लाख रुपये भी था। शैफ जदयू नेता के अलावा क्षेत्र में जल-नल योजना की ठेकेदारी भी करते थे। इस कारण से रुपये लेकर निकले थे। इधर, घटना से आक्रोशित लोगों ने लहेरियासराय-बहेड़ी मार्ग को बांस-बल्ला से जाम कर पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। नाराज लोग शव की बरामदगी और हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग पूरे दिन करते रहे। 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस