मुजफ्फरपुर, जेएनएन। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय और इससे संबद्ध कॉलेजों में पीजी में नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन की निर्धारित तिथि गुरुवार को समाप्त हो गई। सैकड़ों विद्यार्थी नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन देने से वंचित रह गए। विद्यार्थियों का कहना है कि इस बार ऑनलाइन आवेदन करते समय स्नातक का अंकपत्र अपलोड करना आवश्यक है। जबकि, कॉलेज में अबतक स्नातक का अंकपत्र पहुंचा ही नहीं। ऐसे में विवि प्रशासन की ओर से वैकल्पिक व्यवस्था की गई कि वेबसाइट से डिजिटल मार्क्सशीट का प्रिंटआउट निकालकर उसे स्कैन कर अपलोड किया जा सकता है, लेकिन आवेदन के समय स्कैंड अंकपत्र अपलोड नहीं ले रहा है। विद्यार्थियों ने परीक्षा नियंत्रक से इसकी शिकायत भी की थी।

विद्यार्थियों को नहीं मिला अंकपत्र

विभिन्न कॉलेजों में अबतक स्नातक का अंकपत्र नहीं पहुंचा है। इसमें संबंधित कॉलेज प्रबंधन की लापरवाही सामने आ रही है। विवि के अधिकारियों ने बताया कि एक महीने पूर्व कॉलेजों को निर्देश दिया गया था कि वे विवि से अंकपत्र प्राप्त कर लें। इसके बाद भी काफी कॉलेजों ने अंकपत्र प्राप्त नहीं किया। साथ ही कई कॉलेजों में इंटर और मैट्रिक की परीक्षा का हवाला देकर भी विद्यार्थियों को लौटा दिया गया। इस कारण अब उन्हें पीजी में नामांकन में परेशानी झेलनी पड़ रही है।

आवेदनों की समीक्षा

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डॉ.मनोज कुमार ने कहा कि विद्यार्थियों की ओर से ऑनलाइन आवेदन में परेशानी होने की शिकायत मिली है। शुक्रवार को नामांकन के लिए आए आवेदनों की समीक्षा की जाएगी। इसके बाद नामांकन की तिथि बढ़ाने को लेकर विचार किया जाएगा। 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस