पश्चिम चंपारण, जेएनएन। उप मुख्यमंत्री  सुशील मोदी शनिवार की दोपहर तीन बजे हवाई मार्ग से अपने दो दिवसीय दौरे पर वाल्मीकिनगर पहुंचे। स्थानीय नेताओं ने उनका स्‍वागत किया। उनके आगमन को लेकर वाल्मीकिनगर की सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहे। सुबह से ही अधिकारियों की टीम वाल्मीकिनगर में कैंप कर रही थी। उन्‍होने वीटीआर का भ्रमण और निरीक्षण किेया। रात्रि विश्राम के बाद डिप्टी सीएम रविवार की सुबह 11 बजे वन अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

 उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि वाल्मीकिनगर पूरे देश के लोगों को पर्यावरण सुरक्षा के प्रति जागरूक करने का बड़ा केंद्र बनेगा। यह ऐसी जगह है जहां नदी, पहाड़ व जंगल का सौंदर्य एक साथ उपलब्ध है। ऐसा रमणिक स्थल देश में बहुत कम है। यहां इको टूरिज्म विकसित होने से पर्यटक आकर्षित होंगे। इको पार्क व नौका बिहार के बीच गंडक नदी के किनारे 1090 मीटर की लंबाई में कराए गए कटाव सुरक्षा कार्य की नदी के तरफ से आकर्षक बैरिकेडिंग कर पाथ-वे का निर्माण किया गया है।  अब इस पाथवे से टहलते हुए पर्यटक गंडक नदी की धारा के सौंदर्य का आनंद ले सकते हैं ।

टाइगर देखने के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं

उन्‍होंने कहा कि टाइगर देखने के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं है। मोदी ने कहा कि सरकार के प्रयास से वीटीआर में पर्यटन को बढ़ावा मिला है।  बाहर के लोग अब यहां आ रहे हैं। अब टाइगर देखने के लिए कहीं अन्यत्र जाने की जरूरत नहीं है। इससे पूर्व शनिवार की दोपहर दो दिवसीय दौरे पर वाल्मीकिनगर पहुंचे उप मुख्यमंत्री श्री मोदी का स्थानीय कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया।

 वाल्मीकिनगर हवाईअड्डे पर उनका हैलीकॉप्टर उतरा, जहां से वे अतिथि भवन पहुंचे। अतिथि भवन से वे जंगल सफारी के लिए प्रस्थान कर गए। बताते चलें कि  पर्यटन को बढ़ावा देने के  उद्देश्य  से वाल्मीकिनगर में पर्यटन का हब बनाया जा रहा है। कार्यो की प्रगति की समीक्षा व निरीक्षण हेतु उप मुख्यमंत्री वाल्मीकिनगर पहुंचे हैं। वे रविवार को पर्यटन सत्र की औपचारिक शुरुआत करेंगे।

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस