मुजफ्फरपुर। कोरोना संक्रमण ने बाजार को काफी प्रभावित किया है। कॉस्मेटिक्स (सौंदर्य प्रसाधन) सेक्टर भी इससे अछूता नहीं रहा। महिलाएं और युवतियों में इसका ट्रेंड कुछ ज्यादा ही होता है। इस क्षेत्र की कंपनियां भी इसी को देखते हुए तरह-तरह के प्रोडक्ट्स बनाती हैं। लेकिन, लॉकडाउन के बाद से बाजार में नए प्रोडक्ट बहुत कम आ रहे हैं। थोक विक्रेता स्टॉक किए पुराने माल को ही खपाने में लगे हैं। मोतीझील स्थित ब्यूटी सिटी के संचालक राहुल कुमार बताते हैं कि कोरोना से व्यापार काफी प्रभावित हुआ। उसका असर अभी है। आगे छह महीने तक नए प्रोडक्ट्स पर असर पड़ेगा। लॉकडाउन के दौरान सबसे बड़ी समस्या थी कि कम समय दुकान खुलना। इसी में माल जुटाना और फिर ग्राहकों तक उसे पहुंचाना। प्रतिदिन दुकान खुलने के समय की जानकारी भी ग्राहकों को देना, क्योंकि प्रशासन की ओर से समय में प्रतिदिन फेरबदल हो रहा था। ऐसे में ग्राहकों को जोड़े रखने का फोन व वाट्सएप माध्यम बना। फोन और वाट्सएप पर ग्राहक ऑर्डर करते, फिर उनको सामान की होम डिलीवरी की जाती। ग्राहकों की ओर से काफी सहयोग मिला। दुकान में भी ग्राहकों की सुरक्षा को प्राथमिकता दी गई। हालांकि ग्राहकों की डिमांड के अनुसार सामान उपलब्ध नहीं हो पा रहा था। आगे इस प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए ग्राहकों का डाटाबेस तैयार करा रहे हैं, ताकि विपरीत परिस्थितियों में उन तक आसानी से सामान पहुंचाया जा सके। पिछले कुछ दिनों से दुकान पर ग्राहकों का आना शुरू हुआ है। लेकिन, इस मंदी से उबरने में अभी समय लगेगा। डिजिटल की ओर बढ़ रहा ग्राहकों का रुझान : राहुल बताते हैं कि कोरोना संक्रमण के बाद एक सीख तो मिली है कि डिजिटल प्लेटफॉर्म अभी के समय में लोगों की मूल जरूरत है। सामान पसंद करने के साथ भुगतान के लिए भी ग्राहकों का इस ओर रुझान बढ़ रहा है। ऑनलाइन मिल सकेगा मनपसंद सामान : अधिकतर ग्राहक अब ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर ही सामान की मांग कर रहे हैं। ऐसे में दुकान की वेबसाइट तैयार करा रहे हैं। यहां उपलब्ध सामग्री को देखकर ग्राहक उसे ऑनलाइन मंगवा सकेंगे। इससे ग्राहकों को घर बैठे मनपसंद सामान मिल सकेगा। फ्रेस स्टॉक की डिमांड, लेकिन बाजार में पुराने प्रोडक्ट का ही है स्टॉक : कॉस्मेटिक के क्षेत्र में सबसे बड़ी समस्या यह हो रही कि बाजार में लेटेस्ट सामान उपलब्ध नहीं हो रहे हैं। दूसरे प्रदेशों में अभी फैक्ट्री बंद हैं। इसका कारण यह भी है कि कोरोना काल में घर आए मजदूर अभी लौटे नहीं हैं। मोतीझील स्थित ब्यूटी सिटी के संचालक राहुल कुमार ने बताया कि मेकअप, आर्टिफिसियल ज्वेलरी व अन्य कॉस्मेटिक में हमेशा लेटेस्ट वेराइटी की मांग होती है। काफी दिनों से नए सामान आ नहीं रहे हैं। जो माल दुकान तक पहुंच रहा उसपर 2021 समाप्ति तिथि लिखी है। क्योंकि, मार्च में वित्तीय वर्ष की समाप्ति को देखते हुए कंपनियां नए डिजाइन में प्रोडक्ट बाजार में उतारती है। इसपर दो से तीन वर्ष तक की समाप्ति तिथि लिखी होती है। इसे उपयोग में लाने वाले ग्राहक प्राथमिकता देते हैं। ग्राहक खुद भी जागरूक, सुरक्षा मानक का करते पालन : दुकान पर आने वाले ग्राहक अब खुद भी सजग हैं। मास्क पहनकर आने के साथ ही दूरी बनाकर खरीदारी करते हैं। बीते एक महीने से दुकान पर ग्राहकों का आना शुरू हुआ है। ग्राहकों को जागरूक भी किया जा रहा है। जो ग्राहक मास्क पहनकर नहीं आ रहे उन्हें मास्क देकर सामाजिक दायित्व का भी निर्वहन किया जा रहा है। कार्ड और ऑनलाइन भुगतान में आई वृद्धि : पहले जहां ग्राहक कैश ही देते थे। अब 35 से 40 फीसद ग्राहक डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म का प्रयोग कर रहे हैं। क्योंकि, गूगल पे, फोन पे, पेटीएम समेत कई ऐसे माध्यम उपलब्ध हैं जहां एक क्लिक करते ही भुगतान हो जा रहा है। ग्राहकों को एटीएम जाकर पैसा निकालने के झंझट से छुटकारा मिल रहा है। इस कारण अब ग्राहक इसी माध्यम से भुगतान कर रहे हैं। कर्मियों का पूरा किया भुगतान : उस अवधि में दुकान का किराया भी घर से ही देना पड़ा। लेकिन, कर्मी जो दुकान पर ही निर्भर थे। सामाजिक दायित्व के तहत राहुल ने उनका पूरा भुगतान किया। इस कारण स्थिति सामान्य होने पर ये कर्मी भी समर्पित होकर काम में जुटे हैं। लगन और त्योहारी सीजन से उम्मीद : कॉस्मेटिक दुकानदार राहुल का कहना है कि अब त्योहारी सीजन और लगन से उम्मीद है। इस समय ग्राहकों का सहयोग मिलेगा तो इस मंदी और घाटे के दौड़ से जल्दी उबर सकेंगे। नया स्टॉक लाने के लिए लगातार प्रयास हो रहा है। जैसे-जैसे फैक्ट्रियां खुलेंगी बाजार में फ्रेस सामान आने लगेगा। ऐसे दूसरे प्रदेश के कारोबारियों से भी संपर्क किया जा रहा है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस