मुजफ्फरपुर : कोरोना से बचाव की वैक्सीन के रखरखाव को लेकर जिले में तैयारी तेज हो गई है। वैक्सीन आने के बाद सुचारु रूप से रखने व टीकाकरण के लिए राज्य मुख्यालय से 13 छोटे व चार बड़े आइसीआर और चार बड़े डीप फ्रीजर की मांग की गई है। सिविल सर्जन डॉ. एसपी सिंह ने बताया कि टीकाकरण के लिए चिकित्सक व कर्मियों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। साथ ही यहां से तिरहुत प्रमंडल स्तर पर पहले से भी नियमित टीकाकरण की दवा भेजी जाती है। उस दवा भंडार को और मजबूत किया जाएगा। अतिरिक्त डीप फ्रीजर भी मुख्यालय से आने की सूचना है। सीएस ने कहा कि कब से टीकाकरण होगा, कितने लोगों को मिलेगा, कितने चरण में टीका दिया जाएगा ये अभी तय नहीं हुआ है। मुख्यालय स्तर पर टीका प्रोटोकॉल को लेकर मंथन अंतिम दौर में है। वहां से जो निर्देश आएगा उसका पालन किया जाएगा। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ.एके पांडेय की देखरेख में कोरोना वैक्सीन का टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। सभी पीएचसी प्रभारी को निर्देश दिए गए हैं कि वह अपने अधीन चलने वाले टीकाकरण वितरण सेंटर की शीतचक्र व्यवस्था ठीक कर लें।

इन जिलों में यहां से जाएगी वैक्सीन

सदर अस्पताल परिसर में बने मुख्य वितरण सेंटर से सीतामढ़ी, शिवहर व वैशाली के लिए वैक्सीन भेजी जाएगी। वैक्सीन के रखरखाव को अभी 32 छोटे व 16 बड़े आइसीआर और 19 छोटे व आठ बड़े डीप फ्रीजर हैं। इनकी संख्या बढे़गी। कोट

कोरोना वैक्सीन को लेकर तैयारी चल रही है। मुख्यालय से जो रणनीति बनेगी उसका पालन किया जाएगा। अभी शीतच्रक को ठीक कराया जा रहा है।

डॉ.एसपी सिह, सिविल सर्जन टीकाकरण को ये बनी रणनीति

- हर पीएचसी में मानक के हिसाब से उपलब्ध होगी वैक्सीन रखने की व्यवस्था।

- नियमित टीकाकरण पर काम करने वाले सभी स्वास्थ्य कर्मियों की पहचान कर उनके मोबाइल नंबर किए जाएंगे संग्रहित।

- चिकित्सक से लेकर पारा मेडिकल स्टाफ को मिलेगा विशेष प्रशिक्षण।

- टीकाकरण की निगरानी को जिला मुख्यालय में काम करेगा कंट्रोल रूम।

- टीकाकरण का वितरण सदर अस्पताल परिसर से हर जगह होगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस