मुजफ्फरपुर, जेएनएन। चमकी बुखार से पीडि़त वैशाली जिला के भगवानपुर की रागिनी कुमारी (3) की मौत गुरुवार की देर रात  इलाज के क्रम में एसकेएमसीएच में हो गई। डॉक्टर ने बताया कि वह टीबी की मरीज थी। उसे एईएस मरीज की श्रेणी में नहीं रखा गया था। 

 वहीं एसकेएमसीएच के पीआइसीयू में चार बच्चों को भर्ती किया गया। अधिकांश बच्चे बुखार से पीडि़त हैं। इनमें गायघाट की कृष्णा कुमारी (4), पूर्वी चंपारण के हरिसिद्धि की मीनाक्षी कुमारी (3), पूर्वी चंपारण के ही पकड़ी गांव की दस माह की गुंजा कुमारी और सीतामढ़ी के पुपरी का लव कुमार (3) शामिल हैं। डॉक्टरों ने अभी इनमें से किसी को एईएस की श्रेणी में नहीं रखा है। 

 एसकेकएमसीएच अधीक्षक डॉ. एसके शाही ने बताया कि जिस बच्ची की मौत हुई, उसकी रिपोर्ट एईएस में नहीं है। हर चमकी बुखार एईएस नहीं होती है। मालूम हो कि इस साल अब तक एईएस के 16 मरीज भर्ती हुए हैं, जिनमें तीन की मौत हो चुकी है। दो भर्ती हैं तथा 11 बच्चे स्वस्थ होकर वापस हुए हैं।

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस