मुजफ्फरपुर : विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद पश्चिम बंगाल में हुई हिसक घटनाओं पर जिला भाजपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने विरोध जताया है। भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या एवं दुष्कर्म की घटना के विरोध में भाजपा जिलाध्यक्ष रंजन कुमार, पूर्व मंत्री सुरेश कुमार शर्मा समेत नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने आवास पर धरना दिया। जिलाध्यक्ष ने कहा कि बंगाल की घटना लोकतंत्र पर सीधा प्रहार है। आजाद भारत में ऐसी घटना असहिष्णुता एवं ममता बनर्जी सरकार की संवेदनहीनता को दर्शाता है। इसके विरोध में जिला भाजपा के सभी पदाधिकारी, मोर्चा, प्रकोष्ठ की इकाई एवं मंडल अध्यक्षों ने धरना दिया। इस घटना पर संज्ञान एवं कार्रवाई के लिए राज्यपाल को पत्र भेजकर हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है। इसमें हिसा में शामिल लोगों पर सख्त कार्रवाई करने की बात भी कही गई है। कहा कि आंदोलन को और तेज किया जाएगा। विरोध दर्ज करने वालों में जिला महामंत्री सचिन कुमार, महामंत्री धर्मेंद्र साहू, मनोज कुमार सिंह, जिला उपाध्यक्ष हरिमोहन चौधरी, चंदा देवी, मनीष कुमार, मंत्री संजीव झा, संतोष साहेब, भोला चौधरी, जिला प्रवक्ता सिद्धार्थ कुमार, महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष डॉ. रागिनी रानी, उमेश पांडेय, भगवान लाल महतो, विधि प्रकोष्ठ संयोजक अनिल कुमार सिंह, धनंजय झा, देवांशु किशोर, गोल्डन श्रॉफ समेत विभिन्न मंडल के अध्यक्ष शामिल हैं। पश्चिम बंगाल में गुंडा तंत्र हावी : सुरेश कुमार शर्मा पूर्व मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने कहा कि पश्चिम बंगाल में गुंडा तंत्र हावी है। वहां सभी असामाजिक तत्व ममता बनर्जी का झंडा उठाए हुए हैं। यही असामाजिक तत्व बाद में ममता के खिलाफ खड़े हो जाएंगे। इससे उनका सरकार चलाना मुश्किल हो जाएगा। दो दिनों के अंदर अपराध पर लगाम नहीं लगा तो पूरा देश उनके खिलाफ हो जाएगा। फिर वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है। पश्चिम बंगाल में लागू हो राष्ट्रपति शासन

गरीबनाथ धाम नगर मंडल में भाजपा नेता पवन दूबे के आवास पर धरना दिया गया। जिला प्रवक्ता प्रभात कुमार ने कहा कि पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लागू होना चाहिए। प्रणव भूषण मोनी ने कहा कि बंगाल की घटना पर भाजपा कार्यकर्ता चुप नहीं बैठेंगे। पवन दूबे ने कहा कि बंगाल को ममता बनर्जी कश्मीर बनाना चाहती है।

Edited By: Jagran