मुजफ्फरपुर,जासं। महापौर सुरेश कुमार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के लिए विरोधी खेमा के पार्षद गुरुवार को भी नगर निगम बोर्ड की विशेष बैठक बुलाने का पत्र नगर आयुक्त को नहीं सौंप पाए। नगर आयुक्त को बैठक बुलाने के लिए दिए जाने वाले पत्र पर वार्ड 28 के पार्षद राजीव कुमार पंकू का हस्ताक्षर नहीं हो पाया है। वह तारा पीठ दर्शन करने गए हैं। अभी वह वहां से लौटे नहीं हैैं। 

पत्र में राजीव कुमार पंकू को छोड़ अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले सभी पार्षदों का हस्ताक्षर हो चुका है। इसलिए सभी पार्षद गुरुवार को पूरे दिन उनके आने का निगम कार्यालय में इंतजार करते रहे। देश शाम बयान जारी कर राकेश कुमार सिन्हा पप्पू ने कहा कि राजीव कुमार पंकू देर रात तक शहर में आ जाएंगे। सुबह 10 बजे उनके हस्ताक्षर के बाद पत्र नगर आयुक्त को सौंपा जाएगा। दो दिन का विलंब होने के बाद भी पार्षदों ने बैठक की तिथि में किसी प्रकार का परिवर्तन नहीं किया है। पार्षदों ने चर्चा के लिए 29 अक्टूबर की तिथि निर्धारित की है। वहीं पार्षदों का पत्र नगर आयुक्त को नहीं सौंपे जाने पर निगम की राजनीति और गर्म हो गई है। इसके पीछे पार्षदों के खेल का हवाला दिया जा रहा है।

पुलिस मोबाइल काल डिटेल्स खंगाला रही

मुजफ्फरपुर। शराब मामले में फंसे वार्ड पार्षद राकेश कुमार पर नकेल कसने को लेकर पुलिस की तरफ से जांच चल रही है। पुलिस उनके मोबाइल का काल डिटेल्स खंगाला रही है। साथ ही टावर लोकेशन भी पता लगाया जा रहा है। इसके लिए पुलिस ने मोबाइल कंपनी से संपर्क किया है। पुलिस यह पता लगाएगी कि शराब पार्टी में और कौन-कौन शामिल थे। इसके आधार पर वार्ड पार्षद के साथ अन्य पर भी नकेल कसने की कवायद की जाएगी। दूसरी ओर घटना के छह दिन बाद भी वार्ड पार्षद व अन्य की गिरफ्तारी नहीं हो सकी। न ही पुलिस द्वारा जब्त शराब व गिलास को एफएसएल में जांच के लिए भेजने की कार्रवाई की गई। बता दे कि पुलिस ने लक्ष्मी चौक स्थित विवाह भवन के कमरे से आधी बोतल शराब, खाली बोतलें व गिलास जब्त किए थे। इसमें किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई थी। इसके बाद कमरे को सील कर दिया गया था। पुलिस के बयान पर वार्ड पार्षद समेत दो पर केस दर्ज किया गया था। 

Edited By: Ajit Kumar