मुजफ्फरपुर। कूड़ा डंपिंग स्थल का विवाद हल करने के लिए नगर निगम राजनीतिक पहल करेगा। रौतिनिया में शहर से निकलने वाले कूड़ा के डंपिंग का विरोध कर रहे ग्रामीणों को निगम पार्षद मनाएंगे। रौतनिया के लोगों की शिकायत दूर की जाएगी। वहां सिर्फ सूखे कचरे को डंप किया जाएगा। गीला कचरा से खाद तैयार करने के काम में तेजी लाई जाएगी। त्योहार पर शहर की विशेष सफाई की जाएगी। सभी वार्डो को दो-दो अतिरिक्त सफाई कुली दिए जाएंगे। सफाई व्यवस्था को और दुरुस्त करने के लिए सफाई उपकरणों एवं वाहनों की खरीद की जाएगी। इस आशय का निर्णय सोमवार को महापौर सुरेश कुमार की अध्यक्षता में हुई निगम बोर्ड की बैठक में लिया गया। नौ माह बाद हुई बोर्ड की बैठक पांच घंटे तक चली। अधिकतर समय पार्षदों के शिकवा-शिकायत में बीता। पार्षदों ने अपनी समस्याएं रखीं। बैठक में लिए गए निर्णयों का अनुपालन नहीं होने पर नाराजगी जताई गई। खराब वेपर लाइट, दूषित पेयजल की आपूर्ति, आवास योजना के कार्यान्वयन में लापरवाही, समय पर योजनाओं को पूरा नहीं करने पर नाराजगी जताई गई। बैठक में नगर आयुक्त मनेश कुमार मीणा, कार्यपालक अभियंता, तीनों उप नगर आयुक्त शामिल हुए। वहीं, उपमहापौर मानमर्दन शुक्ला समेत डेढ़ दर्जन वार्ड पार्षद अनुपस्थित रहे।

दूषित पानी की आपूर्ति पर भड़कीं पार्षद, साथ लेकर आई थीं बोतल में पानी

जाने-अंजाने में शहरवासी निगम द्वारा आपूर्ति दूषित पानी पीकर बीमार हो रहे हैं। बोतल में निगम के नलों से निकल रहे दूषित पानी को लेकर आई वार्ड 13 की पार्षद सुनीता भारती ने निगम अधिकारियों पर भड़ास निकाली। उनका कहना था कि निर्माण एजेंसियों द्वारा सड़क व नाला निर्माण के दौरान जलापूर्ति पाइप लाइन को क्षतिग्रस्त कर दिया जाता है। इससे लोगों के घरों तक गंदा पानी पहुंच रहा है। शिकायत करने पर भी कोई कार्रवाई नहीं होती। इससे जनता की नाराजगी पार्षदों को झेलनी पड़ती है। आधा दर्जन पार्षदों ने भी उनका समर्थन किया। नगर आयुक्त ने कहा कि निर्माण एजेंसियों को पत्र लिखकर चेतावनी दी गई है। शहरी क्षेत्र में किसी भी प्रकार का निर्माण बिना निगम की अनुमति के नहीं होगा। साथ ही पाइप लाइन क्षतिग्रस्त करने वाले संवेदक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

प्लास्टिक बोतल की जगह स्टील के गिलास में पानी किया गया सर्व

निगम के वार्ड पार्षदों ने सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ अभियान में अपना योगदान दिया। निगम बोर्ड की बैठक में पहली बार पार्षदों को बोतल बंद पानी की जगह स्टील के गिलास में पानी दिया गया। पार्षदों ने यह पहल सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ आम लोगों को जागरूक करने के लिए की है। बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय :

- निगम के सभी वार्ड पार्षदों को मिलेगा लैपटॉप, कर्मचारियों को मोबाइल सिम।

- आम जनता को अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए निगम जारी करेगा टोल फ्री नंबर।

- निगम कार्यालय परिसर में होगा सभा भवन, पार्षद कक्ष एवं प्रशासनिक भवन का होगा निर्माण।

- शहर आने वालों के स्वागत के लिए सभी प्रवेश द्वारों पर लगेगा डिस्प्ले बोर्ड।

- निगम से बिना अनापत्ति प्रमाणपत्र लिए काम करने वाली निर्माण एजेंसियों एवं विभागों पर होगी कार्रवाई।

- शहर में होने वाले काम से संबंधित क्षेत्र के पार्षदों को कराना होगा अवगत, एजेंसियों को भेजा जाएगा नोटिस।

- शहर को अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए छठ पूजा के बाद जिला एवं पुलिस प्रशासन के साथ मिलकर निगम चलाएगा संयुक्त अभियान।

- शहर की सभी नालियों को कराया जाएगा अतिक्रमण मुक्त, अतिक्रमण करने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई।

- शहर के सभी फ्लाई ओवर व रेल ओवरब्रिज के खंभो को स्पाइरल लाइट से सजाया जाएगा।

- सफाई व्यवस्था को और बेहतर बनाने तथा कूड़ा निष्पादन के लिए सफाई उपकरणों एवं आधुनिक वाहनों की होगी खरीद।

- हाउस फॉर ऑल योजना के पर्यवेक्षण को बनेगी पांच सदस्यीय पार्षदों की समिति।

- वार्ड 25 व 42 में पाइप लाइन विस्तार घोटाला की होगी जांच, बोर्ड की अगली बैठक में रखी जाएगी जांच रिपोर्ट।

- खराब वेपर लाइटों की मरम्मत में एजेंसी द्वारा बरती जा रही लापरवाही की सरकार एवं विभाग से की जाएगी शिकायत। एजेंसी के पदाधिकारी के खिलाफ होगी कार्रवाई।

- एक हजार से अधिक वेपर लाइट हैं खराब, बैठक में पार्षदों ने जताई नाराजगी।

- पाइप लाइन बिछाने के दौरान कनेक्शन देने में की जा रही गड़बड़ी की होगी जांच।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस