मुजफ्फरपुर, जेएनएन। एईएस से बच्चों की मौत के लिए सरकार को जिम्मेवार ठहराते हुए कांग्रेस पार्टी ने सूबे के स्वास्थ्य मंत्री से इस्तीफे की मांग की है। साथ ही अस्पताल परिसर में बड़ी संख्या में मिले मानव कंकाल मामले की सीबीआइ या न्यायिक जांच की मांग की है। रविवार को ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं बिहार के प्रभारी सचिव विरेंद्र सिंह राठौर तथा प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने एसकेएमसीएच पहुंच पीडि़त बच्चों के परिजनों से मुलाकात की और उनके दर्द को बांटा। उसके बाद तिलक मैदान स्थित पार्टी कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में विरेंद्र सिंह राठौर ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार की संवेदनहीनता ने बच्चों की जान ली है।

  सरकार यदि गंभीर होती तो ये हालात नहीं होते। सरकार की गंभीरता इस बात से समझ में आती है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंंत्री ने पांच साल पहले जो घोषणा की थी वह आज तक पूरी नहीं हो पाई। हालात का जायजा लेने पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ मंत्री के साथ आए स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्वनी चौबे सो रहे थे और बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय क्रिकेट मैच का स्कोर जानने में लगे थे। उन्होंने कहा कि बीमारी से हुई बच्चों की मौत के लिए नैतिकता के आधार पर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए। अस्पताल परिसर में बड़ी संख्या में मिले मानव कंकाल मामले को उन्होंने गंभीर बताया। कहा, इसकी जांच कर दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा कि राज्य सरकार की स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से विफल है। बीमारी से बच्चे मर रहे थे और सरकार सो रही थी। उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस ने आवाज उठाई तब सरकार की नींद खुली और इलाज की समुचित व्यवस्था हो पाई। अस्पताल का दौरा करने वाले प्रतिनिधिमंडल में सीतामढ़ी के विधायक अमित कुमार टुन्ना, प्रदेश सचिव अनोखी देवी, पूर्व विधान पार्षद लाल बाबू लाल, जिला कांग्रेस अध्यक्ष सूरज दास, पूर्व जिलाध्यक्ष प्रेम कुमार सिन्हा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता संजय कुमार सिंह, अरविंद कुमार मुकूल, मयंक कुमार मुन्ना आदि शामिल रहे।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस