मुजफ्फरपुर। बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा पर्षद की ओर से प्रथम पाली में आयोजित पारा मेडिकल परीक्षा के दौरान शनिवार को शहर के कई केंद्रों पर हंगामा हुआ। इस दौरान रोड जाम, प्रदर्शन व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की गई। देर से आने और निर्देशों की अनदेखी पर कई छात्र-छात्राओं को परीक्षा से वंचित होना पड़ा। खबड़ा स्थित रेजोनोंस स्कूल केंद्र पर फुल बाजू के कपड़े में प्रवेश की अनुमति नहीं मिली तो परीक्षार्थियों ने ब्लेड से कपड़े का बाजू काटकर प्रवेश किया। आधार कार्ड की फोटो कॉपी नहीं होने पर बाहर से कराकर लाने को कहा। छात्राओं का आरोप था कि जब फोटो स्टेट करवा कर लाए तो अंदर जाने से रोका गया। कहा गया कि अंदर जाने का समय खत्म हो चुका है। अब प्रवेश नहीं मिलेगा। इससे नाराज छात्र-छात्राओं और उनके अभिभावकों ने हंगामा शुरू कर दिया। आधे घटे के बाद अंदर प्रवेश कराया गया। कई परीक्षार्थियों ने कहा कि एडमिट कार्ड पर गलत केंद्र का नाम लिखे जाने की वजह से यहा पहुंचने में देर हुई। इस कारण भी कई छात्राओं की परीक्षा छूटी। बाद में पुलिस ने समझाकर शांत कराया। एसएसपी ने भी जायजा लिया।

लॉ कॉलेज केंद्र पर बड़ी संख्या में परीक्षार्थी देर से पहुंचे। इन्हें प्रवेश की अनुमति नहीं मिली। इसके बाद केंद्र पर हंगामा व गेट तोड़ने की कोशिश की। प्रवेश नहीं मिला तो कलमबाग चौक को डेढ़ घंटे तक जामकर प्रदर्शन किया और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। फिर नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा से शिकायत की। मंत्री ने कॉलेज प्रबंधन से बातचीत की। बाद में काजी मोहम्मदपुर थाने की पुलिस ने समझाकर शांत कराया।

उधर, डीएन स्कूल केंद्र के परीक्षार्थियों ने गोला रोड को जामकर प्रदर्शन किया। इनका आरोप था कि समय पर आने के बावजूद प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई। बाद में नगर थाना पुलिस ने जाम हटवाया।

गौरतलब है कि बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा पर्षद व जिला प्रशासन ने निर्देश जारी किया था कि जूता अथवा फुल शर्ट पहनकर आने वाले अभ्यर्थियों केंद्र के अंदर प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसकी अनदेखी के कारण कई परीक्षार्थियों को परेशानी हुई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस