मुजफ्फरपुर/नई दिल्ली, [जेएनएन]। सीबीआइ ने दो डीआइजी, 14 एसपी और तीन एडिशनल एसपी समेत कुल 19 अधिकारियों का तबादला किया है। इनमें बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीडऩ मामले की जांच का नेतृत्व कर रहे पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआइजी) अभय सिंह भी शामिल हैं। उन्हें विशेष अपराध शाखा कोलकाता से दिल्ली स्थित आर्थिक अपराध शाखा में स्थानांतरित किया गया है। वहीं सीबीआइ अधिकारी के तबादले से कई सवाल उठने लगे हैं। हालांकि, वह मुजफ्फरपुर कांड की जांच का नेतृत्व करते रहेंगे। अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

कोलकाता में स्थित आर्थिक अपराध शाखा-4 के पुलिस अधीक्षक (एसपी) पार्थ मुखर्जी को एआइजी (पॉलिसी) के पद पर मुख्यालय बुलाया गया है। उनकी यूनिट चिटफंड मामलों की जांच कर रही थी। मुखर्जी एआइजी (पॉलिसी) के पद पर तैनात विवेक प्रियदर्शी का स्थान लेंगे, जिन्हें जयपुर भेजा गया है। प्रियदर्शी ने 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले की जांच का नेतृत्व किया था। 

प्रशासनिक अधिकारी (कार्मिक) डीपी सिंह के हस्ताक्षर से जारी तबादला आदेश में साफ किया गया है कि कोर्ट की तरफ से जिन अधिकारियों को खास तौर पर उनके नाम से किसी मामले की जांच, निगरानी या पड़ताल की जिम्मेदारी दी गई है, वे अपना काम जारी रखेंगे। आदेश में कहा गया है कि सीबीआइ निदेशक ने इसका अनुमोदन कर दिया है। 

अधिकारियों ने बताया कि भ्रष्टाचार निरोधक इकाई का नेतृत्व कर रहे डीआइजी नितिन ब्लग्गन को एसी-वी की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है। आर्थिक अपराध शाखा-3 के एसपी विज्येंद्र बिदारी को इंटरपोल समन्वय इकाई में स्थानांतरित किया गया है। अगस्ता वेस्टलैंड, विजय माल्या और अन्य मामलों के जांच दल में शामिल किरण एस. को एसी-वी इकाई में भेजा गया है।

अधिकारियों ने बताया कि एसपी अभिषेक दुलार, अनूप टी. मैथ्यू, राजपाल मीणा, शियास ए. जयादेवन ए., सुधांशु धर मिश्रा, पीके मांझी, जयनारायण राणा, शांतनु कर और पीके पांडेय उन अधिकारियों में शामिल हैं, जिनका या तो स्थानांतरण किया गया है या अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है। एएसपी संजय कुमार सिन्हा, एसडी मिश्रा और गजानंद बैरवा का भी स्थानांतरण किया गया है।

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस