मुजफ्फरपुर, जासं। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय ने स्नातक और पीजी में नए सत्र में नामांकन के लिए फिर से पोर्टल खोला है। छात्र-छात्राएं स्नातक सत्र 2022-25 और पीजी सत्र 2021-24 में नामांकन के लिए आवेदन कर सकते हैं। वहीं पूर्व में आवेदन करने वाले ऐसे अभ्यर्थी जिनका कम अंक होने या अन्य किसी गड़बड़ी के कारण मेधा सूची में नाम नहीं आ सका है। वे पोर्टल पर लागइन कर आवेदन को एडिट कर सकते हैं। अध्यक्ष छात्र कल्याण डा. अभय कुमार सिंह ने बताया कि 29 सितंबर से नौ अक्टूबर तक आवेदन के लिए पोर्टल खुला रहेगा। इस अवधि में पूर्व से आवेदन करने वाले विद्यार्थी एडिट भी कर सकेंगे। इसके बाद तीसरी मेधा सूची जारी की जाएगी। विश्वविद्यालय की ओर से बताया गया है कि पांच-छह डिग्री कालेज ऐसे हैं जिन्हें नामांकन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद सरकार से मान्यता मिली। इस कारण उनमें नामांकन ही नहीं हुआ। इसके अलावा सीबीएसई के विद्यार्थी आवेदन करने से वंचित रह गए। इन्हें मौका देने के लिए 10 दिनों तक पोर्टल खोला गया है।

पीजी में आधा दर्जन विषयों में सीटें फुल

विश्वविद्यालय में पीजी के आधा दर्जन विषयों में नामांकन के लिए आपाधापी है। दूसरी मेधा सूची में ही इन विषयों में सीटें भर गई हैं। इक्का-दुक्का सीटें खाली हैं तो तीसरी मेधा सूची में इसका कटआफ काफी अधिक हो जाएगा। यूएमआइएस कोआर्डिनेटर प्रो. टीके डे ने बताया कि इतिहास, मनोविज्ञान, कामर्स, भूगोल और जूलाजी में सीटें भर गई हैं। तीन-चार अन्य विषयों में भी काफी कम सीटें हैं। वहीं दर्जनभर ऐसे विषय हैं जहां काफी सीटें खाली हैं। दर्शनशास्त्र, बाटनी, रसायनशास्त्र, मैथिली, संस्कृत, बांग्ला, फारसी में काफी कम नामांकन हुआ है। बताया कि दूसरी सूची में स्नातक में करीब 12 हजार और पीजी में डेढ़ हजार विद्यार्थियों ने नामांकन लिया है। इसके बाद भी स्नातक में 70 हजार से अधिक सीटें खाली हैं।

आवेदन में गड़बड़ी को करें सुधार

विद्यार्थियों को कहा गया है कि आवेदन में गड़बड़ी के कारण दूसरी मेधा सूची में उनका नाम नहीं आ सका। उन्हें कहा गया है कि आवेदन में एडिट का विकल्प दिया गया है। इसका उपयोग कर जेंडर का विकल्प और विषयों के चयन समेत अपलोड अंकपत्र और दर्ज अंक में अंतर को सही कर लें। नौ अक्टूबर के बाद तीसरी सूची में उनका नाम आ सकता है।

पोर्टल पर दिखेगी कालेजों में रिक्त सीटों की स्थिति

पिछली सूची में एडिट के बाद काफी संख्या में विद्यार्थियों ने अंगीभूत कालेजों का विकल्प दे दिया था, लेकिन यहां उन विषयों में सीट नहीं थी। इस कारण दूसरी सूची में उनका नाम नहीं आ सका। इसबार आवेदन करते समय विकल्प चुनते समय विद्यार्थियों को रिक्त सीटों की स्थिति भी दिखेगी। इससे विद्यार्थी अपने अंक के अनुसार कालेज का चयन कर सकेंगे। 

Edited By: Ajit kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट