मुजफ्फरपुर, जेएनएन। मार्च महीने में इंटरमीडिएट का रिजल्ट लेकर स्नातक पार्ट वन में बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में नामांकन के लिए टकटकी लगाए बैठे डेढ़ लाख छात्रों के इंतजार की घडिय़ां अब खत्म होनेवाली हैं। प्रभारी कुलपति प्रो. राजेश सिंह ने गुरुवार को आश्वस्त किया कि परीक्षा से रिजल्ट आठ को एडमिशन टेस्ट, 15 को रिजल्ट और 30 सितंबर तक एडमिशन संपन्न कर लिया जाएगा। आट्र्स में 65,536, कॉमर्स में 8,434 तथा साइंस में 20, 675 छात्र-छात्राओं ने प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन किए हैं।

 आवेदकों की संख्या बढ़ भी सकती है क्योंकि, बड़ी तदाद में आवेदनों में त्रुटियां भी सामने आई हैं। जिसको दुरुस्त करने पर संख्या में इजाफा हो सकता है। नामांकन मं विलंब के कारण परीक्षा होने या टलने को लेकर असमंजस व अटकलों का बाजार गर्म था। प्रभारी कुलपति ने यह भी कहा कि इस परीक्षा में किन्हीं छात्र को फेल नहीं किया जाएगा। टेस्ट के माक्र्स के आधार पर उनको कॉलेज आवंटित होंगे। अध्यक्ष ने पूछा था कि परीक्षा का मानक क्या होगा अगर छात्र फेल करते हैं तो उसका एडमिशन लिया जाएगा या नहीं?

44 केंद्रों पर पांच जिलों में परीक्षा केंद्र

पांच जिलों के 44 केंद्रों पर परीक्षा लेने की बात कही गई है। इन केंद्रों पर तकरीबन डेढ़ लाख परीक्षार्थी होंगे। ये केंद्र मुजफ्फरपुर के अलावा पूर्वी, पश्चिम चंपारण, सीतामढ़ी व वैशाली के कॉलेजों में होंगे।

तीन सत्र में परीक्षा होगी। सुबह 9 से 11, अपराह्न 12 से दो बजे तथा तीन बजे से पांच तक। छह नोडल केंद्र बने हैं जहां से कॉपी, प्रश्नपत्र एवं निरीक्षण कार्य होगा। दो नोडल केंद्र मुजफ्फरपुर में होंगे। शुक्रवार शाम से विवि की वेबसाइट पर एडमिट कार्ड अपलोड किया जा सकेगा।

 सभी परीक्षार्थियों को मैसेज व ई-मेल से इसकी सूचना दी जाएगी। स्नातक सत्र 2019-22 में पहली बार विश्वविद्यालय स्तर पर ऑनलाइन आवेदन के साथ सेंट्रलाइज्ड एंट्रेंस टेस्ट होने वाला है। पांच जिलों में 42 अंगीभूत व 18 संबद्ध कॉलेजों में एडमिशन होना है। इस प्रकार 60 कॉलेजों में एक लाख के करीब सीटें हैं।  

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप