मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मुजफ्फरपुर, जेएनएन। सदर थाना क्षेत्र के सुभाष नगर के रिटायर्ड कलेक्ट्रेट कर्मी रविंद्र नाथ तिवारी हत्याकांड में पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। गुरुवार को दो आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए कोर्ट में वारंट की अर्जी डाली गई है। इसमें सुनील कुमार गुप्ता उर्फ डब्लू और उसका भाई महंथ गुप्ता शामिल हैं। अन्य दो नामजद आरोपितों के पता का सत्यापन करने के बाद वारंट की कवायद की जाएगी। इधर, बुधवार देर रात तक सदर पुलिस ने कई जगहों पर छापेमारी की। लेकिन, एक भी आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हुई। घटना के बाद से सभी फरार हैं। पुलिस का कहना है कि गिरफ्तारी नहीं होने पर इश्तेहार और कुर्की की कार्रवाई की जाएगी। सर्विलांस टीम भी वैज्ञानिक तरीके से घटना की छानबीन कर रही है। आरोपितों के मोबाइल की कॉल डिटेल्स और लोकेशन निकाला जा रहा है।

दस नामजद समेत सौ पर केस

हत्या के बाद सड़क जाम व बवाल मामले में दारोगा शिवपूजन कुमार के बयान पर 10 नामजद और 90 अज्ञात समेत सौ लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसमें पुलिस पर हमला, दुव्र्यवहार, सरकारी कार्य में बाधा डालने और सड़क जाम करने का आरोप लगाया गया है। पुलिस तस्वीर और फुटेज से आरोपितों की पहचान करने में जुटी है।

यह हुई थी घटना

मंगलवार की रात आरोपितों ने रिटायर्ड कलेक्ट्रेट कर्मी के घर में घुसकर पिस्टल की बट से वारकर घायल कर दिया था। अस्पताल ले जाने के दौरान उनकी मौत हो गई थी। बुधवार को हत्या से गुस्साए लोगों ने बीबीगंज में आगजनी करते हुए सड़क जाम कर बवाल किया था। मृतक के पुत्र अजय कुमार तिवारी के बयान पर सुनील कुमार गुप्ता उर्फ डब्लू, उसके भाई महंथ गुप्ता, दिलीप राय और बुल्लू राय को नामजद आरोपित बनाकर प्राथमिकी दर्ज की गई थी।  

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप