सीतामढ़ी, (रीगा), जासं। जिले के रीगा में शनिवार को दिनदहाड़े युवक की हत्या के मामले में पुलिस ने एक आरोपित को गिरफ्तार किया है जबकि, दो अन्य अभी फरार हैं। थाना क्षेत्र के रीगा स्टेशन टोला निवासी अजय भारती के 18 वर्षीय पुत्र अनमोल कुमार की हत्या के मामले में नामजद तीन युवकों में से एक बखरी गांव के खेन्हारी ठाकुर के पुत्र राजा ठाकुर को पुलिस ने घटना के दिन ही गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद रविवार को उसको न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

एक होनहार छात्र के इस तरह से मार डालने से लोग गम और गुस्से में हैं। शनिवार की देर रात गमागीन माहौल में अनमोल का दाह-संस्कार किया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई थी। दूसरी और मृतक के पिता अजय भारती ने थाने में आवेदन देकर बखरी गांव के तीन युवकों को आरोपित करते हुए हत्या की प्राथमिकी दर्ज कराई है। थानाध्यक्ष संजय कुमार ने कार्रवाई करते हुए एक नामजद अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का कहना है कि हत्या के सिलिसले में तमाम तरह की बातें सामने आई हैं, सभी ङ्क्षबदुओं पर छानबीन चल रही है।

बेंच पर आगे बैठने को लेकर हो गया था टसल

पुलिस सूत्रों के अनुसार, गिरफ्तार राजा ने जानकारी दी कि कोङ्क्षचग के दौरान अनमोल से एक बात को लकर टसल हो गया था। उसी खुन्नस में उसके साथी जानी दुश्मन बन गए थे। और अनमोल को जान देकर उसकी कीमत चुकानी पड़ी। बताया गया है कि यह साजिश हफ्तेभर पूर्व ही आरोपियों ने रच डाली थी। यह वाकया शुरू होता है तकरीबन तीन माह पहले से। स्टेशन चौक स्थित एक कोङ्क्षचग सेंटर में अनमोल व एक आरोपी विकास यादव एक साथ पढ़ाई करते थे। कोङ्क्षचग संस्थान में दर्जनों छात्र-छात्राएं एक साथ पढ़ाई करते थे। विकास व अनमोल के बीच बेंच पर आगे बैठने के लिए विवाद हुआ था। चर्चा तो यह भी है कि एक लड़की के चक्कर में दोनों में टसल चल रही थी। और उसी के चलते आगे की बेंच पर बैठने को लेकर तकरार होता रहा। इसी बात को लेकर एक दिन अनमोल व विकास आपस में भीड़ गए थे। इस भिड़त में विकास को हल्की चोटें आई थीं। मामले को लेकर दोनों के बीच हालांकि समझौता हो गया था। इस कारण यह मामला मामला थाने तक नहीं पहुंच सका। पुन: दोनों में मित्रता कायम हो गई और एक साथ रहने लगे थे।

अनमोल के साथ बदले की आग में जल रहे थे उसके साथी

लेकिन, विकास समेत अन्य साथियों के अंदर अनमोल से बदले की आग बूझी नहीं थी। वे अंदर ही अंदर प्रतिशोध में जल रहे थे। इसी बीच हफ्तेभर पूर्व पंछोर गांव के एक कोङ्क्षचग संस्थान के समीप अनमोल को मारने की साजिश रची गई। उसके अनुसार, शनिवार दोपहर 11 बजे अनमोल को पार्टी देने के बहाने बुलाया गया और उसको मौत के घाट उतार दिया। अनमोल के साथ उसका चचेरा भाई प्रियांशु भी मौजूद था। वह घटना का चश्मदीद था। उसने तीन आरोपितों के नाम पुलिस को बता दिए।