मुजफ्फरपुर, जासं। जेल में बंद जो बंदी कोर्ट में अपनी केस की पैरवी के लिए अधिवक्ता नहीं रख सकते हैं, वैसे बंदियों को जिला विधिक सेवा प्राधिकार की ओर से अधिवक्ता उपलब्ध कराए जाएंगे। इसकी सूची तैयार कर व उनके आवेदनों को जल्द से जल्द अग्रसारित कर प्राधिकार को भेजने का निर्देश दिया गया है। यह निर्देश जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव राजीव रंजन सिंह ने दिया है। वे मंगलवार को प्रशिक्षु न्यायिक दंडाधिकारी तृषा राय व अनुज कुमार के साथ केंद्रीय कारा का निरीक्षण कर रहे थे। मौके पर कारा अधीक्षक राजीव कुमार, उपाधीक्षक सुनील कुमार मौर्य व उच्च वर्गीय लिपिक रवि कुमार उपस्थित रहे।

तीनों खंडों, अस्पताल व पाकशाला का निरीक्षण

प्राधिकार के सचिव सह अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने कारा के गंगा, यमुना व सरस्वती खंड, अस्पताल व पाकशाला सहित समस्त परिसर का निरीक्षण किया। बंदियों से मिलकर उनसे पूछताछ की। खासतौर पर इसमें युवा बंदी शामिल थे। उन्होंने 18 वर्ष से कम उम्र के बंदियों की सूची तैयार कर जिला विधिक सेवा प्राधिकार को भेजने का निर्देश दिया। कुछ बंदियों ने बताया कि वे लोग छोटे-मोटे अपराध के आरोप में जेल में बंद हैं। उनके पास अधिवक्ता नहीं है। कुछ बंदियों ने बताया कि उन्हें अपने अधिवक्ता से बातचीत नहीं हो पाती है। ऐसे बंदियों की सूची तैयार कर भेजने का निर्देश दिया गया। अधिक वर्षा के कारण कारा परिसर में जलजमाव की समस्या के निराकरण के लिए नगर निगम से समन्वय स्थापित करने का निर्देश दिया गया। जेल में बंद विचाराधीन व सजायाफ्ता बंदियों से अलग-अलग बुलाकर भोजन, शिक्षा, स्वास्थ्य व कारा में मिल रही अन्य सुविधाओं के बारे में जानकारी ली गई। किसी बंदी ने कोई शिकायत नहीं की।  

जिले के 18 उपडाकघर होंगे आनलाइन

जागरण संवाददाता,मुजफ्फरपुर ग्रामीण इलाकों में ऑनलाइन सेवा को मजबूत करने के लिए डाकघर को आनलाइन किया जा रहा है। प्रवर डाक अधीक्षक राजदेव प्रसाद ने बताया कि उप डाकघरों को आनलाइन करने की कवायद शुरू है। जिले में चल रहे 54 उप डाकघर में 36 को आनलाइन किया जा चुका है। 18 उप डाकघरों को इस माह के अंततक आनलाइन कर दिया जाएगा। सभी जगह सिस्टम लगा दिया गया है। उसमें बरियारपुर, बी बाजार, चंदनपट्टी, देवरिया, गिद्धा, गयासपुर, जजुआर, कलबाड़ी, कथैया, पैगबरपुर, कुआही, नरमा, हरदी, पताही, पक्की सराय, पीयर, रामपुरहरि, सिलौण शामिल हैं।

Edited By: Ajit Kumar