मुजफ्फरपुर, जेएनएन। कालाजार-मलेरिया उन्मूलन योजना में मिली 3.4 लाख की राशि के गबन मामले में स्वास्थ्यकर्मी शिव शरण दास के हाजीपुर के पटेढ़ी स्थित घर पर पुलिस ने इश्तेहार चस्पा किया है। 

नगर थाना के दारोगा सह केस के जांचकर्ता फुलजेम्स कंडोलना ने उक्त कार्रवाई की है। वहीं आरोपित के खिलाफ कुर्की के लिए भी कोर्ट में अर्जी दी गई है। अगर एक माह के भीतर आरोपित की गिरफ्तारी नहीं होती या उसने आत्मसमर्पण नहीं किया तो पुलिस कुर्की की कार्रवाई  करेगी। इसके लिए कोर्ट से आदेश का इंतजार है।

  बता दें कि आरोपित शिव शरण दास प्रयोगशाला प्रौद्योगिकी इंचार्ज था। उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने कई बार उसके संभावित ठिकानों पर छापेमारी की। लेकिन, वह नहीं मिला। इस मामले में पुलिस अबतक दो अन्य आरोपितों साहेबगंज स्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत स्वास्थ्य निरीक्षक बैद्यनाथ प्रसाद और तत्कालीन मलेरिया पदाधिकारी भागीरथ प्रसाद को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। 

यह है मामला

दिसंबर 2012 में कालाजार-मलेरिया उन्मूलन योजना के लिए 3.4 लाख की राशि विभाग को मिली थी। बाद में राशि की अवैध निकासी एक चेक के माध्यम से करने का मामला सामने आया था। 

जनवरी 2013 में तत्कालीन एसीएमओ डॉ. जेपी रंजन ने इसकी जांच शुरू की। पता चला कि तत्कालीन मलेरिया पदाधिकारी के नाम से बैंक में खाता था। इसी खाते से अवैध निकासी की गई थी। जांच रिपोर्ट के आधार पर तत्कालीन मलेरिया पदाधिकारी के अलावा स्वास्थ्य निरीक्षक बैद्यनाथ प्रसाद और शिव शरण दास को भी आरोपित बनाकर प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। इन सभी के खिलाफ कोर्ट से गिरफ्तारी वारंट निर्गत हुआ था। 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस