मुजफ्फरपुर : बीआरए बिहार विश्वविद्यालय की ओर से दूसरी सूची के आधार पर पीजी में नामांकन की प्रक्रिया शुक्रवार से शुरू हो रही है। चयनित छात्र-छात्राएं आवंटित पीजी विभागों और कालेजों में 31 जुलाई तक नामांकन ले सकेंगे। पहली सूची से नामांकन के बाद रिक्त बचे 2400 सीटों के लिए दूसरी सूची जारी की गई है। इसमें आरक्षित व सामान्य दोनों कोटि में कटआफ में मामूली गिरावट हुई है। इस कारण करीब 10 हजार अभ्यर्थी इस सूची में नहीं आ सके। अब उन्हें तीसरी सूची के लिए इंतजार करना होगा। हालांकि, तीसरी सूची में कटआफ कम भी होता है तो नौ हजार से अधिक अभ्यर्थियों का नामांकन पीजी में नहीं हो सकेगा। जूलाजी की छात्रा श्वेता झा ने बताया कि पिछली बार भी कटआफ अधिक होने के कारण नामांकन नहीं हो सका था। इतिहास की छात्रा पल्लवी ने कहा कि दूसरी सूची का कटआफ भी 60 के पास है। ऐसे में नामांकन हो पाना मुश्किल है। सैकड़ों की संख्या में छात्र-छात्राओं ने कुलपति से पीजी के अधिक डिमांड वाले विषयों में सीट बढ़ाने की मांग की है। बता दें कि कामर्स में विवि के पीजी विभाग में सामान्य कोटि में 1.02 कम हुआ तो बीसी कोटि में कटआफ पहली सूची के समान रह गया। ईबीसी कोटि में एक फीसद कटआफ कम हुआ तो इडब्ल्यूएस कोटि में कोई कमी नहीं हुई। जूलाजी में सामान्य कोटि में 1.22 तो बीसी कोटि में दशमलव एक फीसद कटआफ कम हुआ। भौतिकी में सामान्य कोटि में 1.13, बीसी कोटि में दशमलव 87 फीसद कमी आई है। गणित में पहली सूची से दूसरी में करीब तीन फीसद कटआफ कम हुआ है। कला संकाय में सबसे अधिक कटआफ भूगोल का रहा है। इसके कटआफ में दशमलव 75 फीसद सामान्य कोटि व अन्य में भी एक फीसद से कम कटआफ कम हुआ है। ------------------------

तीसरी सूची के साथ मिलेगा विषय बदलने का विकल्प :

दूसरी सूची के आधार पर नामांकन की प्रक्रिया 31 जुलाई तक चलेगी। इसके बाद सभी पीजी विभाग और कालेज तीन-चार दिनों के भीतर नामांकन की रिपोर्ट विवि को सौंपेंगे। अगस्त के पहले सप्ताह में तीसरी सूची जारी की जा सकती है। डीएसडब्ल्यू प्रो.अभय कुमार सिंह ने बताया कि तीसरी सूची में कम सीटें बचेंगी। ऐसे में जिन विषयों में अधिक सीटें होंगी उनमें नामांकन के लिए जिन छात्र-छात्राओं का नाम इन तीन सूची में नहीं आ सका है वे अपने विषय को बदल सकेंगे। आनलाइन ही यह विकल्प आवेदन वाले लागिन में ही दिखेगा। बताया कि साइंस संकाय के अभ्यर्थी आर्ट के किसी भी विषय जिसमें सीट उपलब्ध हो उसका विकल्प दे सकेंगे। वहीं कला संकाय के अभ्यर्थी अपने ही संकाय के प्रैक्टिकल के विषयों को छोड़कर अन्य विषयों का विकल्प दे सकेंगे। कहा कि इसबार सीटों को भरने के लिए विवि सूची जारी करेगा। आनस्पाट नामांकन का विकल्प किसी हाल में नहीं दिया जाएगा।