मुजफ्फरपुर : अपराध पर अंकुश के साथ शराब धंधेबाजों और संगठित गिरोह के सक्रिय अपराधियों पर नकेल कसने को चार वज्रपार्टी की टीमें गठित की गई हैं। ये टीम संगठित अपराध पर अंकुश लगाने के साथ शराब धंधेबाजों पर कड़ी कार्रवाई करेगी। उक्त बातें तिरहुत रेंज के आइजी पंकज सिन्हा ने सोमवार को पुलिस आफिस में आयोजित बैठक में कही। इस दौरान आइजी ने शराब धंधेबाज व सक्रिय अपराधियों पर नकेल कसने को तैयार की गई विशेष रणनीति से भी पदाधिकारियों को अवगत कराया। इसके तहत हर दिन सभी थाना क्षेत्रों में विशेष अभियान चलाया जाएगा। कहा गया है कि इसमें पूर्व से फरार चल रहे शराब धंधेबाज व हिस्ट्रीशीटरों की सूची तैयार कर हर हाल में इन सभी की गिरफ्तारी सुनिश्चित करना है। बैठक के दौरान जिले में एसएसपी द्वारा पूर्व से गठित एंटी लिकर टास्क फोर्स के भी कार्यो की आइजी ने समीक्षा की। इसमें पाया गया कि जिले में शराब जब्ती व धंधेबाजों पर कार्रवाई के लिए 14 एएलटीएफ की टीमें कार्रवाई कर रही है, मगर उपलब्धि उतनी नहीं हैं। आइजी ने असंतोष जताते हुए इसमें और तेज गति से कार्रवाई का निर्देश दिया। कहा कि एएलटीएफ की टीम और बेहतर प्रदर्शन करें। इसके साथ ही तीन थानों पर एंटी लिकर टास्क फोर्स (एएलटीएफ) का गठन करने का निर्देश दिया। आइजी ने बताया कि अपराध पर अंकुश लगाने के लिए सभी डीएसपी के नेतृत्व में एक-एक वज्र टीम का गठन किया गया है। इसमें इंस्पेक्टर व सब इंस्पेक्टर के अलावा अत्याधुनिक हथियार से लैस जवान शामिल होंगे। इसकी मानीटरिंग एसएसपी करेंगे। इसके बाद हर दिन की कार्रवाई से आइजी को भी अवगत कराना होगा। बैठक में एसएसपी जयंत कांत, नगर डीएसपी रामनरेश पासवान, पूर्वी डीएसपी मनोज पांडेय आदि शामिल थे।

Edited By: Jagran