शिवहर, जागरण संवाददाता। सरकार द्वारा गरीब और मेधावी छात्रों को उच्च शिक्षा के लिए शुरू की गई स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ इलाके के छात्र-छात्राओं को नहीं मिल रहा है। पिछले पांच साल में एक हजार 108  आवेदन में मात्र 800 को ही इस योजना का लाभ मिल सका है। शेष 308 को योजना के लाभ से वंचित होना पड़ा है। जबकि, कुशल युवा कार्यक्रम के तहत के तहत पिछले पांच साल में सात हजार 357 युवाओं ने आवेदन किया। इनमें सात हजार 357 को योजना का लाभ मिला है। इस योजना की उपलब्धि शत-प्रतिशत रही। मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना के तहत पांच साल में आठ हजार 55 युवाओं के आवेदन के विरूद्ध सात हजार 511 को लाभ मिला। 544 को योजना के लाभ से वंचित होना पड़ा।

 स्टूडेंट क्रेडिकट कार्ड योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2020-2021 में कुल 223 छात्र-छात्राओं ने आवेदन दिया। इनमें 97 को इसका लाभ मिला। शेष 126 छात्र-छात्रा योजना के लाभ से वंचित रह गए। वैसे वित्तीय वर्ष 2019- 2020 में 430 छात्रा-छात्राओं में 300 को लाभ मिला था। वित्तीय वर्ष 2018-2019 में इस योजना के तहत 341 छात्र-छात्राओं ने आवेदन दिया था। इनमें 307 को योजना का लाभ मिला था। वर्ष 2017- 2018 में 82 आवेदन के विरूद्ध 60 व वर्ष 2016-2017 में 32 छात्र-छात्राओं में महज दो को ही योजना का लाभ दिया गया था।

 मुख्यमंत्री निश्चय स्वयं सहायता भत्ता योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2020- 2021 में कुल 553 आवेदन में 553 को इसका लाभ मिला। वित्तीय वर्ष 2019-2020 में 663 में 663, वित्तीय वर्ष 2018-2019 में 1274 में 1274, वर्ष 2017-2018 में 4028 आवेदन के विरूद्ध 3484 को ही योजना का लाभ मिला। वहीं वर्ष 2016-2017 में सभी 1537 युवाओं को योजना का लाभ दिया गया था। कुशल युवा कार्यक्रम के तहत वित्तीय वर्ष 2020-2021 में कुल 589 में 589 को इसका लाभ मिला। वित्तीय वर्ष 2019-2020 में 1966 में 1966, वित्तीय वर्ष 2018-2019 में 2050 में 2050, वर्ष 2017-2018 में 2229 आवेदन के विरूद्ध 2918 व वर्ष 2016-2017 में 523 आवेदन के विरूद्ध सभी युवाओं को योजना का लाभ दिया गया था।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप