मुजफ्फरपुर, जेएनएन। लॉकडाउन के बाद विभिन्न प्रदेशों से उत्तर बिहार में आने वालों का सिलसिला जारी है। मंगलवार को 3930 लोग पहुंचे। इन्हें जांच के बाद ठहराव केंद्रों में 14 दिनों के लिए भेजा गया है। कई लोगों की शाम तक जांच जारी थी। इनमें कोई पैदल तो कई ट्रकों के सहारे भाड़ा देकर पहुंचे हैं। रास्ते में इन्हें काफी परेशानी झेलनी पड़ी। कई स्थानों पर पुलिस ने रोककर पूछताछ की। इसके बाद आगे बढऩे दिया गया। सोमवार को 3596 लोग पहुंचे थे। 

पश्चिम चंपारण : बगहा में 250 लोग पैदल व ट्रकों से आए। जांच के बाद स्कूलों के ठहराव केंद्रों में भेजा गया। वहीं, बेतिया जिला मुख्यालय में 547 लोग पहुंचे। इनमें 22 के सैंपल लिए गए। सभी को जांच के बाद पंचायतों में शिफ्ट किया गया। 

पूर्वी चंपारण : 25 लोग विभिन्न साधनों से पहुंचे। इन्हें जांच के बाद घरों में भेज दिया। साथ ही सतर्कता के निर्देश दिए गए। 

मधुबनी : बाहर से 800 लोग पहुंचे। स्क्रीनिंग के बाद घरों और स्कूलों में क्वारंटाइन किया गया। कुछ सेंटरों की स्थिति ठीक नहीं है। कुछ केंद्रों की व्यवस्था ठीक नहीं दिखी। 

समस्तीपुर : 70 लोग पहुंचे। इन्हें क्वारंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है। दो-तीन प्रखंडों को छोड़ सभी जगहों पर व्यवस्था संतोषजनक है। पीएचसी में थर्मल स्क्रीङ्क्षनग कराई गई। पश्चिम बंगाल और नोएडा से ट्रक से पहुंंचे लोगों को दो से तीन हजार प्रति व्यक्ति भुगतान करना पड़ा। रास्ते में खाने-पीने की खास सुविधा नहीं मिली। 

सीतामढ़ी : जिले में 1573 लोग विभिन्न राज्यों से पहुंचे। इनमें 17 नेपाली नागरिक भी हैं। ये लखनऊ और दिल्ली से घर जा रहे थे। सभी को जांच के लिए रोका गया है। आने के दौरान इन्हें काफी परेशानी हुई। 

शिïवहर : 121 लोग पहुंचे। इनमें पांच को क्वारंटाइन किया गया। जबकि, शेष को  ठहराव केंद्रों पर 14 दिनों तक रहने को कहा गया। 

दरभंगा : दिल्ली समेत अन्य स्थानों से 329 लोग पहुंचे। इन्हें जांच के बाद क्वारंटाइन सेंटरों में भेजा गया। दिल्ली से आनेवाले लोगों ने बताया कि पैदल कई किमी आना पड़ा। इसके बाद भाड़े के ट्रक से पहुंचे। 

मुजफ्फरपुर : हरियाणा. पंजाब और मुंबई से 215 लोग पहुंचे। इनकी एसकेएमसीएच में स्क्रीनिंग जारी थी। 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस