मुजफ्फरपुर। जिले में 23 नए संक्रमित मिले तो 34 ने जीती जंग। सिविल सर्जन डॉ.एसपी सिंह ने बताया कोरोना से संक्रमित के संपर्क में आने वाले की जांच की जाएगी। अगर वह संक्रमित मिले तो उनको होम क्वारंटाइन पर रखा जाएगा। सिविल सर्जन ने बताया कि सदर अस्पताल परिसर में ऑक्सीजन प्लांट लगाया जा रहा है। प्लांट लगने के बाद बाहर से ऑक्सीजन नहीं खरीदना पड़ेगा। मातृ-शिशु सदन परिसर में प्लांट लगेगा। इसके लिए संबंधित एजेंसी से संपर्क कर लिया गया है। कोरोना वैक्सीन को रखने के लिए स्टोर बनाया जा रहा है। वह भी अंतिम चरण में है। केयर के जिला समन्वयक सौरभ तिवारी के नेतृत्व में टीम आज निजी नर्सिंग होम का विजिट किया। वहां पर तैनात चिकित्सक व कर्मियों का डाटा लिया गया। वैक्सीन आने के बाद फ्रंट लाइन वैरियर्स को जो दवा देनी है इसके लिए डाटा जुटाया जा रहा है।

शहरी क्षेत्र में हर दिन 800 आरटीपीसीआर जांच का टारगेट : कोरोना की पहचान के लिए जांच का लक्ष्य बढ़ाया गया है। शहरी इलाके में ज्यादा मरीज मिल रहे हैं। इसलिए यहां पर जांच का ज्यादा लक्ष्य रखा गया है। जानकारी के अनुसार,अभी नब्बे फीसदी कोरोना पॉजिटिव केस शहरों व ग्रामीण क्षेत्रों से दस फीसद ही पॉजिटिव आ रहे हैं। सिविल सर्जन डॉ.एसपी सिंह ने कहा कि आरटीपीसीआर जांच को गति दी जा रही है। इसके तहत शहरी क्षेत्र में लक्ष्य की 80 फीसदी सैंपल जांच आरटीपीसीआर से की जा रही है। 20 फीसद जांच ग्रामीण क्षेत्रों में की जा रही है। शहरी क्षेत्र में हर दिन 800 सैंपल लेने का लक्ष्य तय किया गया हैं। 200 नमूना ग्रामीण इलाके से लिया जाएगा। शनिवार को रेलवे जंक्शन पर ब्रह्मपुरा, कन्हौली और अघोरिया बाजार पीएचसी की टीम ने दो-दो सौ आरटीपीसीआर जांच की। बैरिया और इमलीचट्टी बस स्टैंड में बालूघाट और ब्रह्मपुरा पीएचसीएच की टीम ने दो-दो सौ सैंपलों को आरटीपीसीआर जांच के लिए एकत्र किया। यह सिलसिला लगातार चलता रहेगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप