पश्चिम चंपारण जासं। जिले के नरकटियागंज रेलवे चिल्ड्रन पार्क के एक क्वार्टर में स्टेशन प्रबंधक किचन बाय का शव फंदे में लटका हुआ मिला है। रेल पुलिस पहुंची तो उसका हाथ भी बंधा हुआ था। फिर पुलिस ने फंदे से युवक के शव को उतारा गया। संदिग्ध स्थिति में मौत का मामला मानकर रेल पुलिस जांच पड़ताल में जुट गई है फिलहाल शव को अंत्यपरीक्षण के लिए भेजा गया है। मृत युवक की पहचान साठी थाना के धर्मपुर गांव निवासी शैलेश महतो(40) पिता नारद महतो के रूप में की गई है। बताया जाता है कि वह युवक एक परित्यक्त रेल क्वार्टर में रहता था और स्टेशन प्रबंधक समेत कुछ अधिकारियों का खाना बनाता था।

थानाध्यक्ष ने कहा अंत्यपरीक्षण के बाद स्पष्ट हो सकेगी जानकारी

रेल थानाध्यक्ष संतोष कुमार ने बताया कि उन्हें स्टेशन प्रबंधक द्वारा यह सूचना दी गई कि उनका नौकर फोन नहीं उठा रहा है। जब थानाध्यक्ष उस क्वार्टर पर पहुंचे और दरवाजा खोला तो देखा कि वह प्लास्टिक के पीला रंग के रस्सी में लटका पड़ा है। उसके दोनों हाथ भी बंधे हुए थे। शव को नीचे उतारा गया। पुलिस जांच पड़ताल में जुट गई है। थानाध्यक्ष ने बताया कि अंत्यपरीक्षण रिपोर्ट आने के बाद ही मौत मामले में स्पष्ट जानकारी हो पाएगी। वैसे मृत युवक के परिजनों को सूचना दे दी गई है। घटनास्थल पर रेल पुलिस निरीक्षक केके सिंह ने पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। आरपीएफ इंस्पेक्टर चंदन कुमार भी वहां पहुंचे। स्टेशन प्रबंधक लालबाबू राउत ने बताया कि मृत शैलेश उनके यहां खाना बनाता था। कल वह मोतिहारी के लिए निकले और आज मोतिहारी से आने के क्रम में जब उसको फोन किया तो वह नहीं उठाया। उसके बाद उन्हें कुछ संदेह हुआ। फिर इसकी सूचना जीआरपी को दी।

आत्महत्या या हत्या, हो रही जांच

एक रेल क्वार्टर में संदिग्ध स्थिति में युवक की हुई मौत के मामले में अटकलों का बाजार गर्म है। मामला हत्या का है या आत्महत्या। पुलिस अंत्यपरीक्षण रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। लेकिन फंदे से लटके और दोनों हाथ बंधे हुए स्थिति में होने के बाद अधिकांश लोग हत्या का मामला भी मान रहे हैं। मृत युवक पिछले चार-पांच सालों से यहां रहता था। रेल अधिकारियों का खाना बनाता था। वह शादीशुदा है और उसे एक बेटा और एक बेटी भी है। उसकी पत्नी गौनाहा क्षेत्र में अपने मायके में है।