जागरण संवाददाता, मुजफ्फरपुर :  M.J.M.C ( Master of Journalism and mass Communication) की   पढ़ाई अब इसी सत्र से शुरू होगी। यह जानकारी कुलपति ने दी।  बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के हिंंदी  विभाग में नवनिॢमत राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर विभागीय पुस्तकालय कक्ष का उद्घाटन सांसद अजय निषाद ने किया। इसका निर्माण सांसद निधि से हुआ है।
उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता कुलपति प्रो.हनुमान प्रसाद पांडेय ने की। उन्होंने कहा कि इस हिंदी विभाग से अनेक साहित्यिक और शैक्षणिक रत्न संबद्ध रहे हैं। विवि के हिंदी    विभाग में पीजी पत्रकारिता, एलएलबी और पारा मेडिकल की पढ़ाई इसी सत्र से शुरू होगी। इसकी रूपरेखा तैयार कर ली गई है। राजभवन से अनुमति मिलते ही मार्च के बाद नामांकन की प्रक्रिया शुरू होगी। यह पाठ्यक्रम हिंदी विभाग के अंतर्गत संचालित होगा। विभागाध्यक्ष प्रो.सतीश कुमार राय इसके निदेशक होंगे। सांसद निषाद ने कहा कि बिहार की मिट्टी बहुत उर्वर है। यहां के विद्याॢथयों में अपार क्षमताएं और संभावनाएं हैं। वे अपने प्रयासों से पूरे देश और दुनिया को नई राह और रोशनी दिखा रहे हैं। विभागाध्यक्ष प्रो. राय ने स्वागत भाषण दिया। कहा कि शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने और सर्जनात्मक संवाद को बेहतर करने के लिए हम निरंतर प्रयासरत हैं। पुस्तकालय निर्माण में कोष उपलब्ध कराकर ज्ञान-परंपरा को समृद्ध करने में योगदान देने के लिए सांसद की प्रशंसा की। प्रसिद्ध समालोचक प्रो. रेवती रमण ने कहा कि यह ऐतिहासिक और उज्ज्वल दिन है।
हमारा विभाग अत्यंत समृद्ध रहा है। सांसद ने हिंदी विभाग में विभागीय सहकारी पुस्तक विक्रय केंद्र का भी उद्घाटन किया। यहां अधिकतम छूट के साथ हिंदी के विद्याॢथयों को पाठ्य पुस्तकें तथा अन्य साहित्यिक कृतियां उपलब्ध कराई जाएंगी। सांसद ने अपने कोष से आरबीबीएम कॉलेज से ङ्क्षहदी विभाग तक पक्की सड़क का निर्माण कराने की स्वीकृति दी। संचालन सहायक प्राध्यापक डॉ. पुष्पेंद्र कुमार और धन्यवाद ज्ञापन डॉ.कल्याण कुमार झा ने किया। मौके पर प्रो.हरिशंकर भारती, विकास गुप्ता, भोला चौधरी, अजीत कुमार, प्रयाग साहनी, कवि डॉ.रामेश्वर द्विवेदी, डॉ.संजय पंकज, डॉ. मीनाक्षी मीनल, चांदनी समर, एमपी साइंस कॉलेज के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो.शेखर शंकर मिश्र, डॉ.वीरेंद्रनाथ मिश्र, सहायक प्राध्यापक डॉ.राकेश रंजन, डॉ.उज्ज्वल आलोक, डॉ.संध्या पांडेय, प्रकाशक अशोक गुप्त आदि थे। 
वेदना की उड़ान का लोकार्पण :
लेखक चांदनी समर की पुस्तक वेदना की उड़ान का लोकार्पण किया गया। नारी को समाज में स्वतंत्रता और समानता नहीं मिलती है, उन्हें अपना हक पाने के लिए खुद खड़ा होना पड़ेगा। यह पुस्तक इन्हीं बातों को केंद्र में रखकर लिखी गई है। लोकार्पण के मौके पर डॉ.संजय पंकज समेत अन्य साहित्यकार और शोधार्थी मौजूद थे। संचालन डॉ.संध्या पांडेय ने किया। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप