मुजफ्फरपुर । जिले के विभिन्न प्रखंडों में प्राथमिक विद्यालयों के अधूरे भवन निर्माण के दोषी 21 पंचायत शिक्षक बर्खास्त होंगे। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी असगर अली ने जांच रिपोर्ट के साथ संबंधित प्रखंडों के पंचायत शिक्षक नियोजन समिति को इसकी अनुशंसा भेज दी है। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने लापरवाही के दोषी शिक्षक चुनचुन, अजय कुमार, लालबाबू राम, भरत चौधरी, कुमारी रेखा, रामदिनेश, मो. मुर्तुजा, मो. इमरान, उर्मिला गुप्ता, बालेंद्र सहनी, ऊषा कुमारी, आशुतोष कुमार, लाल बाबू, वीरेंद्र कुमार, राणा कुणाल, श्रीमती धर्मशिला, स्वर्णिमा, सुनीता कुमारी समेत 21 के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की अनुशंसा की है। इसके अलावा एक नियमित शिक्षक बुनियादी विद्यालय रतवारा, बंदरा के वेतन बंद की अनुशंसा की गई है। इस संबंध में क्षेत्रीय उप निदेशक शिक्षा को पत्र लिखा गया है। जिन स्कूलों में अधूरे भवन निर्माण के मामलों में कार्रवाई हुई है उनमें, मीनापुर हरैरा मध्य विद्यालय, मीनापुर में ही मध्य विद्यालय, मोतीपुर के मध्य विद्यालय, गायघाट के ही चार मध्य विद्यालय,ं सरैया के मध्य विद्यालय बोचहां, के अलावा मोतीपुर, सरैया व पारू के मध्य विद्यालयों में अधूरा निर्माण वर्षो से लटका हुआ है। इन विद्यालयों में सात से भवन निर्माण अधूरे पड़े हैं। हालत यह है कि किसी में छत ढलाई के बाद का काम नहीं हुआ तो कहीं प्लास्टर नहीं हुआ है। मोटे तौर पर एक से दो लाख रुपये तक का निर्माण काम पूरा नहीं हुआ। इससे मध्य विद्यालय संचालित करने में परेशानी होती है। दूसरी ओर सहायक अभियंता सुमन कुमार ने बताया कि अधूरे निर्माण से अब प्रत्येक विद्यालय का पूरा काम होने में लागत व्यय कई गुना बढ़ जाएगा। ऐसा बार बार इन शिक्षकों को पत्र लिखने के बाद हुआ है। लिहाजा उन पर कड़ी कार्रवाई जरूरी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप