मुजफ्फरपुर, जेएनएन। Muzaffarpur Water Logging : जलजमाव से दो दर्जन मोहल्ले अभी टापू बने हुए हैं। बीस दिनों से हजारों परिवार घरों में कैद हैं। पुरुष सदस्य किसी तरह बाहर निकल रहे हैं, लेकिन महिलाओं व बच्चों का घरों से निकलना मुश्किल है। बीबीगंज, आनंदपुरी, संजय सिनेमा रोड, सिकंदरपुर, बालूघाट, अखाड़ाघाट, पानीकल कैंपस, चर्च रोड, चंदवारा, गोलाबंध रोड, मिठनपुरा, बेला, कालीबारी रोड, मिस्कॉट, रज्जू साह लेन, अतरदह, गन्नीपुर समेत कई अन्य इलाके जलजमाव से सर्वाधिक प्रभावित हैं। सबसे अधिक परेशान शहर के पूर्वी व उत्तरी भाग में है, जहां अभी दो से तीन फीट पानी लगा है।

महामारी की आशंका

गोला बांध रोड निवासी पूर्व वार्ड पार्षद सुमन तिवारी का कहना है कि जमा पानी काला पड़ गया है। महामारी की आशंका बनी है। लोग परेशान हैं। निगम पूरी तरह से विफल साबित हुआ है। जलजमाव प्रभावित सभी इलाकों का यही हाल है। लोग त्राहिमाम कर रहे हैं। हालांकि लोगों को इस संकट से निकालने के लिए निगम दिन-रात लगा हुआ है। जमा पानी निकालने को हर जतन किए जा रहे हैं। नालों के ऊपर से अतिक्रमण हटाकर बहाव चालू किया जा रहा है। जिन इलाकों में स्लूस गेट बंद होने से जलनिकासी बाधित है वहां पंङ्क्षपग सेट से पानी निकाला जा रहा है। पानीकल प्रभारी के अनुसार अब तक बंध पर 80 व 26 एचपी के एक-एक, 28 के दो और आठ एचपी के पांच पंप लगाए गए हैं। वहीं गली-मोहल्लों से पानी निकालने के लिए विभिन्न क्षमता के दर्जनभर से अधिक पंप लगाए गए हैं। जलनिकासी अभियान का नेतृत्व अपर नगर आयुक्त विशाल आनंद कर रहे हैं।

 

Edited By: Ajit Kumar