मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मुजफ्फरपुर, जेएनएन। पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ.जगन्नाथ मिश्रा का मुजफ्फरपुर से गहरा लगाव था। यूं तो उन्होंने यहां विकास के कई काम किए, लेकिन शिक्षा के क्षेत्र में उनका महत्वपूर्ण योगदान था।

एलएन मिश्रा कॉलेज आॅफ बिजनेस मैनेजमेंट के माध्यम से यहां के बच्चाों को उच्च शिक्षा हासिल करने में मदद की। उनके पुत्र एवं पूर्व मंत्री नीतीश मिश्रा ने बताया कि दिल्ली में इलाज के क्रम में उनकी मृत्यु हुई। द्वारिका सेक्टर चार स्थित अपार्टमेंट में उनके पार्थिव देह को रखा गया है। इसे मंगलवार को पटना लाया जाएगा। अंतिम संस्कार सुपौल के बलुआ में होगा।

नगर विकास आवास मंत्री सुरेश शर्मा, सांसद अजय निषाद, पूर्व मंत्री विधान पार्षद देवेशचंद्र ठाकुर और विधायक बेबी कुमारी आदि ने उनके निधन पर शोक जताया है। सांसद अजय निषाद ने कहा कि वे अपने जीवन के अंतिम क्षण तक समाज के अंतिम पंक्ति के लोगों की मदद करते रहे। उनकी भरपाई नहीं की जा सकती है। इधर पूर्व मंत्री मनोज कुशवाहा, जदयू नेता शब्बीर अहमद, ठाकुर हरिकिशोर सिंह भाजपा नेता मनीष कुमार, भगवानलाल महतो आदि ने भी शोक जताया है।

चाणक्‍य विद्यापति सोसाईटी के अध्‍यक्ष विनय पाठक, संरक्षक शंभूनाथ चौबे, उद्योगपति भूषण झा, शिक्षक रामजी झा, महंत नवल किशोर मिश्र, हरिशंकर पाठक, स्‍नेह कुमार झा, अज्‍यानंद झा आदि ने शोक व्‍यक्‍त किया। एलएन मिश्रा कॉलेज आफ बिजनेस मैनेजमेंट में शोक सभा का आयोजन किया गया। रजिस्टार डाॅ.कुमार शरदेन्दु शेखर, निदेशक डाॅ.कामेश्वर मिश्रा, मोहम्द अख्तर अंसारी, अमरेन्द्र शेखर, मनोज कुमार, डाॅ.श्यामानंद झा, डा.शंकर कुमार सिंह झा आदि ने उनके निधन को अपूरणीय क्षति बताया।  

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप