मुजफ्फरपुर। राजद के उपाध्यक्ष पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि किसानों को फसलों की सही कीमत नहीं मिल रही। गेहूं का मूल्य 1735 रुपये प्रति क्िवटल सरकार ने तय किया। लेकिन, 1300 से 1400 रुपये प्रति क्िवटल की दर से किसान गेहूं बेचने को विवश हैं। देश में अब तक 12 लाख किसानों ने खुदकशी की है। इसमें बिहार के 100 और मुजफ्फरपुर जिले की बात करें तो यहां के पांच किसानों ने खुदकशी की है। वह गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

पीएम व सीएम घोषणा में मस्त

केंद्र व राज्य सरकार किसानों की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार केवल घोषणा करने में मस्त हैं। राजद किसानों के मुद्दे पर 12 जून से आंदोलन करेगा। मुजफ्फरपुर में अमर शहीद खुदीराम बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद समाहरणालय परिसर में धरना व प्रदर्शन होगा। इसके बाद राज्य व देश स्तर पर आंदोलन किया जाएगा।

किसान को मिलनी चाहिए पेंशन

सरकारी कर्मचारी, मजदूर तक को पेंशन मिल रही है। इसलिए अब किसानों को भी पेंशन मिलनी चाहिए। उनकी खेती के लिए रोजगार गारंटी योजना से मजदूर उपलब्ध कराए जाएं। किसान न सही समय पर बीज, न पानी और सबकुछ ठीक तो मौसम की मार से परेशान हो रहे हैं।

ये हैं मांगें

-किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य दिया जाए। गेहूं की खरीदारी सरकारी स्तर पर अविलंब शुरू की जाए।

-मक्का, दलहन, तेलहन, फल-सब्जी आदि की उचित कीमत किसानों को मिले।

-किसानी के लिए सरकार आठ हजार रुपये एकड़ की दर से सहायता राशि दे।

-किसानों के लिए अविलंब पेंशन तय की जाए।

-जंगली जानवर, नीलगाय व वनैया सुअर से फसल बचाने को सरकार नियमित अभियान चलाए।

-किसानों का कर्ज माफ किया जाए।

ये लोग रहे मौजूद

इस दौरान राजद जिलाध्यक्ष पूर्व विधायक मिथलेश प्रसाद यादव, महानगर अध्यक्ष वसीम अहमद मुन्ना, छात्र नेता चंदन यादव, रमेश गुप्ता, डॉ. बिनोद यादव, जनार्दन ठाकुर, चक्रधर पासवान आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप