मुंगेर । जमालपुर-बरियारपुर रेलवे सेक्शन के बीच स्थित ऋषि कुंड हाल्ट के आगे रेलवे ट्रैक किनारे बसे कल्याणटोला मुशहरी के पास असामाजिक तत्वों का अड्डा बन गया है। अवैध तरीके से रहकर लोग ट्रेन पर पथराव और यात्रियों पर हमला कर रहे हैं। सबकुछ जानने और घटना होने के बाद भी आरपीएफ ठोस कार्रवाई नहीं कर रही है। यह गांव गंगा नदी के कटाव से विस्थापित होकर आज से लगभग 25 साल पूर्व रेलवे लाइन किनारे बसा है। कई बार रेलवे की ओर से अतिक्रमण हटाया गया, लेकिन सभी फिर से काबिज हो जा रहे हैं। ऐसे में रेलवे के लिए खतरे की घंटी से कम नहीं है। अभी तक ट्रेन पथराव और चलती ट्रेन पर यात्री पर हमला का ही मामला सामने आया है। कहीं आरपीएफ नहीं चेती तो किसी दिन यह लापरवाही बड़े हादसे का कारण बन सकता है। लोगों का कहना है कि रेल प्रशासन को रेलवे लाइन किनारे रह रहे लोगों को हटाना चाहिए, जिससे रेल यात्री सुरक्षित यात्रा कर सकते हैं। --------------------------- केस स्टडी-एक लगभग तीन सप्ताह पहले इस गांव के एक नाबालिग लड़के ने विक्रमशिला एक्सप्रेस से जा रहे भागलपुर के एक यात्री के हाथ में डंडा मारकर मोबाइल छीन लिया। यात्री के घटनास्थल पर पहुंचने पर ग्रामीणों ने नाबालिग को पकड़कर मोबाइल लौटाया। इस घटना के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। ----------------- केस स्टडी -दो मंगलवार की शाम गया से कामाख्या जा रही साप्ताहिक एक्सप्रेस के एसी कोच पर इसी जगह पर असामाजिक तत्वों ने पत्थर फेंक दिया। कांच टूट गई। संयोगवश कोई यात्री घायल नहीं हुआ। आए दिए इस तरह की घटनाएं हो रही है, इससे यात्री काफी डरे सहमे हुए हैं।

Edited By: Jagran