मुंगेर। मुंगेर जिले के नक्सल प्रभावित इलाके के थाने नक्सलियों के निशाने पर हैं। इधर, पुलिसिया खुफिया तंत्र जिले के अलग अलग इलाकों में नक्सलियों के जमावड़े की सूचना दे भी रहे हैं। जिनके खोज में पुलिस लगातार अभियान भी चला रही है।

जिले के गंगटा, शामपुर, नयारामनगर, धरहरा, लड़ैयाटांड, घटवारी पुलिस कैंप आदि में सुरक्षा के चाक चौबंद व्यवस्था नही हैं। सभी थाने खुले क्षेत्र में बने हैं। जहां न सिर्फ सुरक्षा बलों की कमी महसूस की जाती है। बल्कि अत्याधुनिक हथियारों की भी कमी है। जबकि नक्सली संगठन ने अत्याधुनिक हथियारों का जखीरा जमा कर रखा है। नक्सलियों के पास गुरिल्ला युद्ध में माहिर सदस्यों की भी भरमार है। जिसकी बानगी नक्सली हमले में देखने को मिली भी है। जब घात लगाकर संगठन के सदस्य पुलिस पर भारी भी पड़े हैं।

5 जनवरी 2005 को नक्सलियों द्वारा किए गए बारूदी सुरंग विस्फोट में तत्कालीन एसपी केसी सुरेंद्र बाबू की शहादत के बाद पुलिस मुख्यालय से नक्सल प्रभावित थानों को हाई अलर्ट रहने की हिदायत दी गई थी। जिसके बाद जिले के नक्सल प्रभावित थानों में सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए। वहीं, भीमबांध के जंगल में सीआरपीएफ बटालियन की भी तैनाती की गई। विभाग द्वारा धरहरा व खड़गपुर के जिन विद्यालयों को पुलिस कैंप में तब्दील किया गया, उन स्कूल भवनों को भी विस्फोट कर ध्वस्त करने में हिचकिचाहट महसूस नही की। ऐ भी नक्सलियों को अपनी पैठ वाली जगह पर सुरक्षा बलों का डेरा डालना खटकता है। सुरक्षा बलों के कारण नक्सलियों के मूवमेंट पर रोक लगी है।

हाल के कुछ वर्षों में लगातार पुलिस की बढ़ती दबिश से नक्सली बैकफुट पर चले गए थे। पुलिसिया कार्रवाई में संगठन के कई बड़े नेता भी मारे गए। जिसका बदला लेने को सिद्धू कोड़ा, बड़कू दा, ¨पटू राणा, बालेश्वर कोड़ा, पंकज यादव, महिला कमांडर करूणा कुमारी, अर¨वद यादव सहित अन्य के नेतृत्व में नक्सलियों की एक बड़ी फौज क्षेत्र में डेरा जमाए हुए हैं। जिसकी पुष्टि गुरूवार की देर शाम मुंगेर, जमुई व लखीसराय पुलिस के संयुक्त अभियान में नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ से भी हुई है। जिसमें मुंगेर के एरिया कमांडर पंकज यादव की एक कार्बाइन के साथ गिरफ्तारी भी हुई है।

----------------

पुलिस पूरी तरह मुस्तैद है। हर तरह की परिस्थितियों से निपटने में हम सक्षम है। सभी थाने संसाधनों व अत्याधुनिक हथियारों से भी लैस हैं। नक्सल प्रभावित क्षेत्र के थाने पूरी तरह सुरक्षित हैं। हालिया दिनों में भी थानों की सुरक्षा की खातिर हर संभव उपाय किए गए हैं।

-- आशीष भारती, एसपी, मुंगेर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप