मुंगेर। भागलपुर-किऊल रेलखंड पर इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन दौड़ाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। इसी महीने की 25 तारीख से इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन दौड़ने की उम्मीद है। इलेक्ट्रिक इंजन दौड़ाने की जिम्मेवारी जमालपुर लोको पायलट को दी जाएगी। यहां के पायलट ट्रेन को गति देंगे। डीजल की जगह इलेक्ट्रिक इंजन से परिचालन शुरू होने के बाद यात्रियों को किऊल तक जाने में करीब तीस मिनट के टाइम की बचत होगी। पहले फेज में सात महत्वपूर्ण ट्रेनों का परिचालन डीजल की जगह इलेक्ट्रिक इंजन से किया जाएगा। इनमें भागलपुर-आनंद बिहार टर्मिनल विक्रमशिला सुपरफास्ट, अमरनाथ, जनसेवा एक्सप्रेस, भागलपुर-नई दिल्ली साप्ताहिक सुपरफास्ट, भागलपुर-यशवंतपुर अंग सुपरफास्ट एक्सप्रेस, गरीब रथ सुपरफास्ट एक्सप्रेस, भागलपुर-दानापुर इंटरसिटी एक्सप्रेस का परिचालन इलेक्ट्रिक इंजन से किया जाएगा। इलेक्ट्रिक इंजन से परिचालन शुरू होने से ट्रेनों की रफ्तार बढ़ जाएगी। बता दें कि मार्च के पहले पखवाड़े में मुख्य संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) ने भागलपुर-किऊल रेलखंड रेल विद्युतीकरण का निरीक्षण किया था। सीआरएस परिचालन शुरू कराने के लिए हरी झंडी दी। इसके बाद पूर्व रेलवे मुख्यालय ने पहले चरण में सात महत्वपूर्ण ट्रेनों का परिचालन इलेक्ट्रिक इंजन से कराने का निर्देश दिया है। इसमें चार सुपरफास्ट और तीन एक्सप्रेस ट्रेन शामिल है।

- - - - -

जल्द आएंगे इलेक्ट्रिक इंजन

ट्रेन के परिचालन के लिए 10 इलेक्ट्रिक इंजन कोलकाता से आएगी। जमालपुर के डीजल लोको पायलट ट्रेनिग लेकर पहुंच रहे हैं। इन ड्राइवर का इलेक्ट्रिक इंजन चलाने का प्रशिक्षण दे दिया गया है। 24 के पहले तक जमालपुर स्टेशन के लोको में बचे कुछ काम का पूरा कर लिया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप