-जमालपुर-साहिबगंज के बीच चलती है ट्रेन, खड़े होकर यात्रा करने को मजबूर पैसेंजर

- जनरल कोच में पैर रखने की जगह नहीं, यात्रियों को हो रही परेशानी

- ज्यादा राजस्व देने के बाद भी रेलवे को पैसेंजरों की नहीं है चिता संवाद सहयोगी, जमालपुर (मुंगेर) : भागलपुर जमालपुर किऊल रेल खंड पर चल रही पैसेंजर ट्रेनों में सुविधाएं तो नहीं बढ़ी, लेकिन ट्रेनों से बोगियों की संख्या जरूर कम कर दी गई है। ऐसे में यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बोगियां कम होने से यात्रियों में अफरातफरी की स्थिति बन गई है।

जमालपुर से सुल्तानगंज, भागलपुर, साहिबगंज, कजरा, अभयपुर, किऊल के बीच चलने वाली ट्रेन संख्या 53416/15 व‌र्द्ध्मान पैसेंजर का परिचालन गार्ड, ब्रेकवान मिलाकर 14 कोच के साथ किया जाता है। दो सप्?ताह से इस ट्रेन में पांच बोगियों को हटा दिया गया है। यात्री जमालपुर से साहिबगंज तक के 128 किमी का सफर खड़े-खड़े करने को मजबूर हैं। यात्रियों को काफी परेशानी और बढ़ गई है। इधर, कोच हटाने के पीछे कारणों को बताने से अधिकारी परहेज कर रहे हैं।

दरअसल, जमालपुर से वर्तमान में करीब 70 हजार के आसपास यात्री प्रतिदिन पैसेंजर, एक्सप्रेस और मेल से आवागमन करते हैं। यात्रियों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। जिस तरह से यात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई उस अनुपात में बोगियों की संख्या नहीं बढ़ सकी। उल्टे ट्रेन से जनरल कोच की संख्या घटा दी गई है।

---------------

कोच हटाने के पीछे इलेक्शन स्पेशल भी वजह यात्री कोच हटाने के पीछे इलेक्शन स्पेशल का परिचालन भी वजह हो सकती है। लोकसभा चुनाव के कारण मिलिट्री फोर्स, अ‌र्द्धसैनिक को एक जगह से दूसरे जगह ले जाने के लिए कई इलेक्शन स्पेशल का परिचालन हो रहा है। ऐसे में कई ट्रेनों की बोगियों को काटकर इलेक्शन स्पेशल में जोड़ा जा रहा है। एक अधिकारी ने बताया कि इलेक्शन के बाद जिन-जिन ट्रेनों में कोचों की संख्या कम हुई है, फिर से जोड़ दिया जाएगा।

---------------

भीड़ से निपटने की कोई रणनीति नहीं

दानापुर-साहिबगंज इंटरसिटी, जमालपुर-मालदा इंटरसिटी, व‌र्द्धमान पैसेंजर, जयनगर पैसेंजर, कटवा सवारी गाड़ी, भागलुर-दानापुर इंटरसिटी, जनसेवा एक्सप्रेस सहित अन्य गाड़ियों में यात्रियों का काफी दबाव है। लेकिन रेलवे के पास भीड़ से निपटने के लिए कोई खास रणनीति नहीं है।

Posted By: Jagran