संवाद सहयोगी, जमालपुर (मुंगेर) : जमालपुर रेल कारखाना को निर्माण इकाई का दर्जा देने, रेलवे विश्वविद्यालय की स्थापना सहित 21 सूत्री मांगों का ज्ञापन बुधवार को जमालपुर रेल निर्माण कारखाना संघर्ष मोर्चा के संयोजक पप्पू यादव के नेतृत्व में मुख्य कारखाना प्रबंधक दयानिधि मरांडी को सौंपा गया।

मुख्य कारखाना प्रबंधक को दिए गए ज्ञापन सौंपने के बाद मोर्चा के संयोजक पप्पू यादव ने कहा कि जमालपुर रेल इंजन कारखाना जमालपुर क्षेत्र का गौरव है। विश्व प्रसिद्ध कारखाना के अस्तित्व पर लगातार एक साजिश के तहत कुठाराघात किया जा रहा है। इस कारखाना को लेकर आम लोगों में यह धारणाएं बनती जा रही है कि रेलवे बोर्ड से लेकर यहां पदस्थापित अधिकारी कारखाना को समाप्त करने की साजिश करते हैं। एसपीआरए की समाप्ति , बैंगन घोटाला, कारखाने के अधिकारियों एवं संवेदकों द्वारा बड़े पैमाने पर लूट

खसूट, अधिकारियों द्वारा मजदूरों का शोषण इसके ज्वलंत प्रमाण हैं। इसको लेकर जमालपुर रेल निर्माण कारखाना संघर्ष मोर्चा ने 21 सूत्री मांगों का ज्ञापन सीडब्ल्यूएम को सौंपा है। इसके बाद इन सवालों को लेकर आंदोलन किया जाएगा। मौके पर सीपीआई के अंचल सचिव मुरारी प्रसाद, राजद जिला महासचिव कन्हैया ¨सह, लोक जनशक्ति पार्टी के महासचिव कृष्णा रावत, विकास मंच के अध्यक्ष सुबोध तांती, वैश्य समाज के प्रधान संगठन मंत्री शशी शंकर पोद्दार, रालोसपा के किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव रविकांत झा के अलावे समाजवादी पार्टी के मीडिया प्रभारी मनोज क्रांति आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran