केएम राज, जमालपुर (मुंगेर) : ऐसे तो एशिया का पहला रेल कारखाना जमालपुर का डंका देश से विदेश तक बज चुका है। कोरोना की दूसरी लहर में कई कर्मियों की जान जाने के बाद भी कारखाना ने अपने काम और हुनर के दम पर झंडा बुलंद रखा। 2021 कारखाना के लिए काफी बेहतर साबित हुआ। मालगाड़ी बैगन मरम्मती में नया कीर्तिमान बनाया। पूर्व रेलवे के सभी कारखाना को पीछे छोड़ दिया। जमालपुर कारखाना ने 2020 के पुराना को तोड़ते हुए नया रिकार्ड बनाया। जमालपुर रेल कारखाना ने नई पहचान बनाई। कारखाना में पहली बार सात हजार रेल कर्मियों का बायोमेट्रिक से हाजिरी बनाने का सिस्टम लागू किया गया। यहां बनने वाले 140 टन भार के क्रेन फेमस है। प्राइवेट कंपनी ने चार 140 टन डीजल हाइड्रोलिक क्रेन बनाने का आर्डर भी इसी वर्ष कारखाना को दिया गया। पूर्व रेलवे में सांस्कृतिक गतिविधि में जमालपुर कारखाना का पहला स्थान रहा।

------------------------------------

पहला इलेक्ट्रिक इंजन का हुआ मरम्मत

इसी वर्ष में जमालपुर डीजल शेड में इलेक्ट्रिक इंजन का इलाज (मरम्मत) शुरू हुआ। अब तक डीजल इंजन पर जमालपुर रेल कारखाने का नाम लिखा रहता था, लेकिन अब इलेक्ट्रिक इंजन पर जमालपुर का नाम दिखने लगा। डीजल शेड में इलेक्ट्रिक इंजन का काम शुरू हो गया है। काम शुरू होने से लगभग तीन हजार कर्मियों में नई आस जगी है। पूर्व रेलवे के आसनसोल से मरम्मत के लिए पहला रेल इंजन जमालपुर कारखाना पहुंचा। महज दो सप्ताह में इंजन की मरम्मत और रंग-रोगन कर आसनसोल भेज दिया गया। जमालपुर डीजल शेड में हर वर्ष पांच दर्जन के आसपास इलेक्ट्रिक इंजन को दुरुस्त करने का वर्क लोड मिलने की उम्मीद है। नए वर्ष के पहले माह में कुछ इलेक्ट्रिक इंजन जमालपुर पहुंचने की उम्मीद है।

------------------------------------

सौगात लेकर आएगा नव वर्ष, अधिकारी कर रहे मंथन

-उम्मीद-2022-

जमालपुर (मुंगेर) : रेल कारखाना के लिए नव वर्ष 2022 कई उम्मीदों से भरा होगा। नव वर्ष में कारखाना में कई सौगात मिलने की उम्मीद है। जोन से लेकर बोर्ड तक रेलवे के अधिकारी मंथन कर रहे हैं। कारखाना में उत्पादन क्षमता को बढ़ाने को लेकर सभी शाप को पूरी तरह हाइटेक करने की उम्मीद है। कारखाना में बनने वाले जैक का आर्डर आने की संभावना है। 175 टन डीजल हाइड्रोलिक क्रेन के निर्माण के दिशा में फंसा पेच भी साफ होने की बातें कही जा रही है। डीजल शेड को पूरी तरह इलेक्ट्रिक शेड में बदल दिया जाएगा। कारखाना के डब्ल्यूआरएस के शाप-पाचं का शुभारंभ की संभावना है। कारखाना में नव वर्ष से हर माह सात सौ मालगाड़ी के बैगन मरम्मत का लक्ष्य दिए जाने की संभावना है।

Edited By: Jagran