मधुबनी। दुश्मनों से डटकर मुकाबला कर देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले सपूतों का बलिदान सदैव याद किया जाता रहेगा। हजारों सैनिकों ने अपने जान की कुर्बानी देकर देश की सीमाओं की सुरक्षा और शान को बरकरार रखा है। देश के लिए जीने-मरने के संकल्प के साथ भीषण गर्मी और शीतलहर में भी अपने फर्ज अदा करते हुए शहीद होने वाले सैनिकों का सम्मान प्रत्येक देशवासी का कर्तव्य है। दुर्गम पहाड़, घने जंगलों में दिन-रात देश की खातिर तैनात रहने वाले शहीद सैनिकों की याद में इस दीपावली पर एक दीया जलाकर देशभक्ति का परिचय दिया जाना चाहिए। एक दीया शहीद सैनिकों के बलिदान को रोशन करेगा। 'एक दीये की लौ शहीद सैनिकों के बलिदान का मान बढ़ाएगा। उनकी याद में दीया जलाना त्योहार की गरिमा को बढ़ाएगा। शहीद सैनिकों की याद में हरेक नागरिकों को दीपावली पर एक दीया जरूर जलाना चाहिए। उनके प्रति हमारी श्रद्धांजलि होगी।'

- हरिश्चंद्र झा, अवकाशप्राप्त प्रोफेसर

फोटो 19 एमडीबी 20 'अपनी सीमाओं की रक्षा में शहीद होने वाले सैनिकों का बलिदान याद किए जाते रहेंगे। युग-युग तक शहीदों का सम्मान होता रहेगा। उनके मान-सम्मान की रक्षा देश भक्ति से कम नही होगी। उनकी याद में इस दीपावली पर दीया जलाने का संकल्प लेते हैं।'

- संतोष सिंह, इंजीनियर

फोटो 19 एमडीबी 21

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप