मधुबनी। घोघरडीहा नगर पंचायत में चहुंओर नारकीय स्थिति है। समुचित जल निकासी के अभाव में खतरनाक बन रही ढक्कन विहीन नाला एवं जगह जगह दुर्गंध देती जमा पानी से लोगों का जीना मुहाल हो गया है। नपं की हृदय स्थली स्टेशन चौक स्थित विद्यापति टावर से लेकर गुमटी नंबर 72 एवं 73 तक जाने वाली सड़क की जर्जर स्थिति नपं प्रशासन को कटघरे में खड़ा कर दिया है। विशेषकर टावर चौक से हटनी जाने वाली पथ निर्माण विभाग की सड़क में स्टेशन चौराहा से लेकर धर्मशाला होते हुए दुर्गा स्थान मोड़ तक वाहन तो दूर पैदल राहगीरों के लिए आवागमन खतरे से खाली नहीं है। सबसे विचित्र स्थिति गुमटी से आगे उक्त सड़क की है जहां जलजमाव से अजीज लोगों के द्वारा लगभग एक माह पूर्व चार से पांच फीट की लंबाई में सड़क को तोड़ दिया है ,लगभग 50 फीट लंबाई में जगह- जगह उखड़ी सड़क और उसमें जमा पानी से होकर गुजरने के दरम्यान आए दिन उस गड्ढा में गिरकर कई यात्री जख्मी हो गए हैं । फिर भी अभी तक नपं प्रशासन की नजर इस ओर नहीं है।घोघरडीहा नपं के विकास का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि न सिर्फ बरसात के मौसम में वार्ड 5 की आधी आबादी एक अदद पुल के अभाव में चचरी ही आवागमन का सहारा बना हुआ है । इतना ही नही नपं के प्रमुख वार्डो में शामिल वार्ड 4 अवस्थित महादलित टोल (मुसहरी )का सैकड़ों परिवार आज भी बिजली के अभाव में ढिबरी युग मे जीने को मजबूर हैं ।

सबसे ताज्जुब की बात यह है कि पिछले तीन से चार माह के दौरान संस्थान के माध्यम से सफाई अभियान पर खर्चा तो प्रति माह लगभग चार लाख रुपये करने का दावा किया जाता है लेकिन ऐसा कुछ नजर नहीं आता। इस बाबत कार्यपालक पदाधिकारी लक्ष्मण प्रसाद ने कहा उपलब्ध संसाधन से कार्य किया जा रहा है आगे उन्होंने कहा कटाव स्थल पर ह्यूम पाइप लगाया जाएगा ।

Posted By: Jagran