मधुबनी। अंधराठाढ़ी प्रखंड मुख्यालय स्थित कोसी निरीक्षण भवन परिसर में रविवार को समाजवादी पार्टी की एक बैठक हुई। बैठक की अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष रामलोचन साहू और संचालन मुकुंद कुमार चौधरी ने की। बैठक में पूर्व 19 सितंबर को पूर्व प्रस्तावित एक दिवसीय किसान आक्रोश मार्च एवं धरना की तैयारियों की समीक्षा की गई। साथ ही केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीति, किसानों की समस्याएं, कमरतोड़ महंगाई और झंझारपुर को जिला बनाना इस बैठक का मुख्य मुद्दा था।

बैठक को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक रामकुमार यादव यादव ने कहा कि गरीब किसानों का जमीन का भू राजस्व और मालगुजारी सौ गुना बढ़ा दी गई है। बिहार सरकार के भू राजस्व और लगान विभाग के तुगलकी आदेश से किसानों गरीबों से मध्यकालीन जजिया टैक्स जैसा मालगुजारी लगाकर किसानों को बर्बाद करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है। देश के अन्नदाता किसान सरकार की नीति से चौतरफा मार झेलने को विवश है। इन सब मांगो को लेकर झंझारपुर में पूर्व प्रस्तावित किसान आक्रोश मार्च में ह•ारो की संख्या में जुटकर इसको सफल बनाना है।

जिला पार्षद सह जिला प्रधान महासचिव संजय यादव ने कहा कि वर्तमान केंद्र और राज्य सरकार सिर्फ चमक दमक की सरकार है। ये सरकार जुमलेबाजी और वादाखिलाफी कर अबतक किसानों को बेहतर मूल्य देने में विफल रही है। दूसरी तरफ केंद्र सरकार नोटबंदी जीएसटी लगाकर बेरोजगारी बढ़ाने के साथ ही गैस डीजल पेट्रोल के दामों में भारी बढ़ोतरी से आम लोगों में त्राहिमाम की स्थिति उत्पन्न हो गई है। सपा का 19 सितंबर को प्रस्तावित किसान आक्रोश मार्च ऐतिहासिक होगा।

झंझारपुर प्रभारी प्रबोध चंद्र दास, गोपाल जी झा, विष्णुदेव यादव, चंद्रकांत चौधरी और अनवारूल हक ने कहा कि बिहार में कानून व्यवस्था चौपट हो गया है। गरीब, मजदूर, किसान इस सरकार की नीतियों से तबाह हो चुके हैं। नकली विकास के कोलाहल में गरीबों की आवाज दबाई जा रही है। सपा इस जनविरोधी सरकार के खिलाफ जोरदार 19 तारीख को झंझारपुर में जोरदार आंदोलन करेगी और जनविरोधी इस सरकार को उखाड़ फेंकेगी। मौके पर यासीन अंसारी, वीरेंद्र राम, सत्यम झा, नवीन कुमार, पालम सदाय, दुखरन यादव, जीवछ यादव, अश्वनी झा, घूरन महतो सहित दर्•ानो नेता और कार्यकर्ता मौजूद थे।

Posted By: Jagran