मधुबनी, जागरण संवाददाता। स्थानीय थाना क्षेत्र के धर्मडीहा गांव निवासी एक मजदूर की दिल्ली में कथिततौर पर गर्दन रेत कर हत्या कर दी गई थी। हत्या की घटना के तीन दिन बाद बुधवार को शव गांव पहुंचा तो कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। मृतक की पहचान थाना क्षेत्र के धर्मडीहा गांव निवासी रामकृष्ण मुखिया के 21 वर्षीय पुत्र जयलाल मुखिया के रूप में हुई है।

करीब पांच माह पहले गांव के ही एक व्यक्ति जयलाल मुखिया को मजदूरी के लिए दिल्ली ले गया था। लेकिन, बीते 24 सितंबर को उनकी हत्या हो गई। जिसके बाद उनके परिजन को सूचना आई कि उनका पुत्र आत्महत्या कर लिया है। परिजन सूचना मिलते ही दिल्ली पहुंचे। जहां पर दिल्ली पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेते हुए शव का पोस्टमार्टम कराकर उनके परिजनों को सौंप दिया। जिसके बाद शव लेकर गांव पहुंचे।

हत्यारों को कड़ी सजा दिलाने का मांग

ग्रामीण एक जुट होकर चैती दुर्गा मंदिर परिसर में शव रखा गया। सभी ग्रामीण और पूर्व मुखिया संतोष कुमार सिंह एवं स्थानीय थाना पुलिस की उपस्थिति में मृतक युवक को न्याय दिलाने व हत्यारा को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है। इधर मृतक युवक की शव गांव आने की सूचना मिलते ही कथित आरोपी के सभी सदस्य घर छोड़कर फरार हो गए।

मृतक युवक की शव गांव पहुंचते ही गांव के सभी महिला व पुरुषों में काफी आक्रोश देखने को मिला है। आक्रोशित ग्रामीणों को थानाध्यक्ष ललन प्रसाद चौधरी ने समझा बुझा कर शांत किया। थानाध्यक्ष ने ग्रामीणों की उपस्थिति में मोबाइल पर दिल्ली पुलिस से बात कर इस मामले में कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।

नहर में डूबने से मजदूर की मौत

बाबूबरही प्रखंड क्षेत्र स्थित घोंघौर गांव में नहर में डूबने से एक व्यक्ति की मौत हो गई है। मृतक की पहचान घोंघौर निवासी नथुनी पासवान (35 ) के रूप में की गई है। वह राजमिस्त्री के साथ मजदूरी का काम करता था। बुधवार को उन्हें कोई काम नहीं मिला। जिस कारण वह घर पर ही था। बुधवार की दोपहर गांव से पूरब निर्माणाधीन पश्चिमी कोसी नहर शाखा में शौच के लिए गया।

नहर में वर्षा का पानी व कीचड़ जमा था। लोग आशंका व्यक्त की जा रही है कि शौच के क्रम में पैर फिसलने से उनकी मौत हो गई। गांव के कुछ लोग जब नहर की ओर गए तब इस घटना की जानकारी हुई। लोगों ने नहर से शव बाहर निकाला। इस घटना से मृतक के स्वजन में कोहराम मच गया है। उन्हें दो पुत्री व एक पुत्र है। इस घटना की पुष्टि करते हुए मुखिया कंचन कुमारी ने बताया कि पीड़ित परिवार को कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत तीन हजार रुपये प्रदान कर दी गई है।

Edited By: Pankaj Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट