मधुबनी। झंझारपुर नगर पंचायत क्षेत्र के वार्ड एक स्थित ऐतिहासिक महारानी तालाब तक एक पहुंच पथ का निर्माण संभव नहीं हो पाया है। स्थानीय लोगों की मानें तो नपं के प्रथम कार्यकाल से ही इस तालाब तक पहुंच पथ के निर्माण की मांग की जाती रही है। हर चुनाव में प्रत्याशियों के द्वारा जीत के बाद पथ का निर्माण कराने का वादा किया जाता रहा है। किन्तु अभी तक पथ का निर्माण संभव नहीं हो पाया।

इधर सूत्रों की मानें तो कुछ माह पूर्व ही महारानी तालाब तक पहुंच पथ के साथ ही 41 योजनाओं की निविदा कराई गई थी। किन्तु निविदा प्रक्रिया पर सवाल उठने के कारण जांच के पेच में यह योजना फंस गई है। बहरहाल जो भी हो किन्तु इस तालाब तक पहुंच पथ का निर्माण नहीं कराया जाना आगामी निकाय चुनाव में प्रत्याशियों को जनता की अदालत में खड़ा कर सकता है।

इस चुनाव में अनुसूचित महिला के लिए आरक्षित हो जाने से वार्ड के सभी पूर्व एवं वर्तमान वार्ड पार्षदों को चुनाव का मैदान छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा है। इस वार्ड में देखा यही गया है कि यहां की जनता अपने पार्षद को अगले चुनाव में पुन: मौका नहीं देती। चाहे इसका कारण चुनाव रोस्टर हो या कुछ और। इस वार्ड से वर्तमान पार्षद मुन्नी खातून हैं। जबकि पूर्व के पार्षदों में बद्री सदाय एवं चन्द्रकला देवी हैं। 21 मई को होने वाले चुनाव में इस वार्ड से कुल पांच प्रत्याशी मैदान में एक दूसरे को पटखनी देने के लिए प्रयासरत हैं, जिनमें संगीत देवी, वीणा देवी- 1, वीणा देवी- 2, शीला देवी एवं सोनू घर-घर जाकर मतदाताओं के सामने अपने को औरों से बेहतर बताने के प्रयास में लगी हुई हैं। सभी प्रत्याशी नया चेहरा हैं। इस चुनाव में किस नए चेहरे को मिलता है ताज और किसको मैदान से बाहर करेगी जनता, अब यह तो समय ही बताएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस