मधुबनी। शॉर्ट-सर्किट की घटना से अगलगी विकराल रूप धारण कर लेता है। इससे देखते ही देखते बड़े पैमाने पर संपत्ति की क्षति हो जाती है। सरकारी, गैर सरकारी के अलावा निजी प्रतिष्ठानों पर बिजली आपूर्ति की व्यवस्था में खामियां होने के कारण अगलगी की घटनाएं सामने आते रहते है। एक माह पूर्व समाहरणालय परिसर स्थित बिजली पोल से जुड़ी तार से शॉर्ट-सर्किट से अफरातफरी का माहौल बन गया था। इस घटना को लेकर जिलाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक द्वारा जांच के आदेश दिए गए थे। इसी तरह मार्च 2017 में शहर के गिलेशन बाजार स्थित एक किराना दुकान में देर रात अगलगी की घटना में करीब 15 लाख से अधिक की संपति जल कर राख हो गया था। घटना के पीछे शार्ट-सर्किट बताया गया था। इसी तरह वर्ष 2017 में जिले के करीब डेढ़ दर्जन अगलगी की घटनाओं में करीब आधा दर्जन घटनाओं में शार्ट सर्किट की आशंका जताई गई थी। सदर अस्पताल रेलवे स्टेशन समाहरणालय नगर परिषद कार्यालय प्रधान डाकघर दूरसंचार कार्यालय सहित अन्य सरकारी प्रतिष्ठानों पर बिजली वाय¨रग को चुस्त-दुरुस्त करने की जरुरत महसूस की जा रही है। अस्पताल, रेलवे स्टेशन, समाहरणालय सहित कई सार्वजनिक जगहों पर जर्जर तार व जगह-जगह क्षतिग्रस्त स्वीच के कारण शार्ट-सर्किट की घटनाएं सामने आती रहती हैं। विद्युत विभाग के सहायक विद्युत अभियंता गौरव कुमार ने बताया कि सरकारी, गैर सरकारी प्रतिष्ठानों के अलावा सार्वजनिक स्थलों के बिजली वाय¨रग के प्रति विभाग पूरी तरह सचेत है। विद्युत उपभोक्ता को शार्ट-सर्किट की आशंका के प्रति सजग रहना चाहिए। इससे बचने के प्रतिष्ठान को बंद करते समय विद्युत आपूर्ति ठप कर देनी चाहिए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप