मधुबनी । तीन दिनों से गायब अधेड़ का शव रविवार को भूपट्टी कोसी नहर से दक्षिण तालाब में उपलाता मिला। शव मिलने की सूचना आग की तरह फैली और सैकड़ों की संख्या में लोग तालाब के पास जुट गए। शव मिलते ही स्वजनों में कोहराम मच गया। ग्रामीणों ने शव के साथ सड़क जाम कर करीब तीन घंटों तक पुलिस को कार्रवाई से रोके रखा। लोगों के प्रदर्शन को देखते हुए बाबूबरही के अलावा राजनगर व खजौली थाना की पुलिस भी मौके पर पहुंची। खजौली इंस्पेक्टर भी पहुंचे। काफी समझाने के बाद लोगों ने तीन घंटों बाद शव पुलिस के हवाले किया जिसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा सका। लोगों का कहना है कि अधेड़ की हत्या कहीं और की गई और शव को तालाब में फेंक दिया गया। मृतक अधेड़ पांच जनवरी की रात से ही गायब था। अगर उसकी मौत तालाब में डूबने से होती तो तीन दिनों में शव तालाब में फुल गया होता, लेकिन शव को देखने से ऐसा प्रतीत नहीं होता। अधेड़ के गायब होने के बाद तालाब में जाल डालकर उसकी तलाश की गई थी, लेकिन तब शव नहीं मिला था। रविवार को अचानक शव तालाब में उपलाता मिला। बहरहाल, पुलिस विभिन्न बिदुओं पर जांच में जुट गई है। पुलिस ने लोगों को भरोसा दिया कि जल्द ही मामले का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।

--------------

जीजा के घर रह मछली का कारोबार करता था मृतक :

दरअसल बाबूबरही थाना क्षेत्र के बरूआर गांव निवासी मृतक श्रीकृष्ण देव सहनी विगत 17 दिसंबर से अपने बहनोई भूपट्टी गांव निवासी दिलचंद सहनी के घर रहकर उनके साथ मछली का व्यापार करता था। पांच जनवरी की रात वह अपने जीजा के साथ उनके कोसी नहर से दक्षिण तालाब पर रखवारी को गया था। रात में दोनों वहीं बने झोपड़ी में सो गए। कुछ ही देर बाद मृतक की बहन उमा देवी व उनके संग गांव के रंजीत पासवान वहां खाना पहुंचाने आए तो श्रीकृष्ण देव सहनी गायब पाए गए। दोनों की मानें तो उस वक्त एक चार चक्का गाडी़ उसी तालाब के निकट नहर पर लगी थी जिससे घिघियाने की आवाज आई। स्वजनों ने उसे गायब देख खोजबीन की, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। इस बात को लेकर बाबूबरही थाना में आवेदन देते जमीन विवाद को लेकर बरूआर गांव के रामनारायण सहनी पर उसे गायब करने की संभावना जताई गई थी। पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना किया था, लेकिन कोई साक्ष्य नहीं मिला। इस बीच रविवार को उसी तालाब में मृतक का शव उपलाता मिला। स्वजनो व ग्रामीणों का कहना है कि उनका अपहरण कर कहीं अन्यत्र हत्या कर रविवार अहले सुबह शव को तालाब में लाकर फेंक दिया गया है।

--------------

पुलिस को झेलना पड़ा लोगों का आक्रोश :

मृतक के चार नाबालिग बच्चों के सिर से पिता का साया उठ गया। शव मिलने के बाद आक्रोशित लोगों के आक्रोश का सामना मौके पर पहुंची पुलिस को भी झेलना पड़ा। ग्रामीण मृतक के परिवार को उचित मुआवजा व दोषियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हेराफेरी के कोशिश की संभावना भी जताई गई। हालांकि, पुलिस ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि दोषियों को किसी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। जल्द मामले का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।

-------------------------

Edited By: Jagran