मधुबनी। लॉकडाउन-4 के पहले दिन बुधवार को बाजार में दो बजे तक चहल-पहल बनी रही। मंगलवार तक शहर में दस बजे तक ताला लटक जाने वाले दुकानों पर बुधवार को दोपहर दो बजे तक ग्राहकों की आवाजाही लगी रही। हालांकि, तेज धूप के कारण दोपहर एक बजे के बाद से ही ग्राहकों की संख्या कम होने लगी। लॉकडाउन-4 के तहत राशन, फल, सब्जी, मांस और मछली की के अलावा बुधवार को खुलने वाली कपड़ा, रेडीमेड कपड़ा, पुस्तक, स्पो‌र्ट्स संबंधी दुकान, सैलून, ऑटोमोबाइल्स, टायर, ऑटोमोबाइल पा‌र्ट्स विक्रेताओं के चेहरे पर संतोष नजर आया। मगर, दुकानों में ग्राहकों की संख्या कम होने से उनमें निराशा छाई रही। शहर के एक रेडीमेड कपड़ा विक्रेता सुशील खेतान ने बताया कि बुधवार दो बजे तक दुकान खोलने की मिली छूट के बाद भी इक्का-दुक्का ग्राहक ही नजर आए। हालांकि, दुकान खोलने की मिली छूट का अधिकांश समय दुकान की साफ-सफाई में ही गुजर गया।

----------------

खरीदारी में अफरातफरी से मिली निजात :

लॉकडाउन में मिली छूट से खरीदारों में सामानों की खरीदारी में अफरातफरी से निजात मिला है। दस बजे तक दुकान खोलने की बाध्यता से आवश्यक सामान की खरीदारी के लिए झटपट बाजार भागना पड़ता था। वहीं, शहर के मछली विक्रेता मनोहर साहनी ने बताया कि दो बजे तक मछली बिक्री की छूट से कोई खास लाभ नहीं मिला है। खरीदार मछली के लिए सुबह के बाद शाम में ही बाजार निकलते हैं। इधर, कपड़े की खरीदारी को बाजार निकली मंजू देवी ने बताया कि कपड़े की दुकान खोलने की छूट मिलने से खरीदारी खरीदारी में राहत मिली है।

------------------

सरकारी कार्यालयों में लोगों का रहा टोटा :

लॉकडाउन के तहत सरकारी कार्यालय खुलने के पहले दिन कार्यालयों में कोई खास चहल-पहल नहीं देखी गई। कार्यालय के पदाधिकारी व निर्धारित संख्या में कर्मियों को कार्यालय में देखा गया। आम लोगों का कार्यालय आना नहीं हो सका। इधर, नगर निगम कार्यालय में नगर आयुक्त राकेश कुमार, उप नगर आयुक्त अरुण कुमार के अलावा कुछ कर्मियों को देखा गया। नगर निगम सहित अन्य सरकारी कार्यालयों के पदाधिकारियों, कर्मियों को कोरोना गाइडलाइन का पालन करते देखा गया।

Edited By: Jagran