मधुबनी [जेएनएन]। बाढ़ की धारा से बांध क्‍या टूटा, डोमू सहनी को घर-परिवार व संपत्ति के बह जाने का इतना खौफ हो गया कि सदमें में जान चली गई। उनकी मौत का पत्‍नी चूल्हिया देवी को भी गहरा सदमा लगा। पति की मौत के 10 मिनट के भीतर उनकी भी मौत हो गई। इसके बाद पुत्र झपसी सहनी ने दोनों का अंतिम संस्‍कार बांध पर ही कर दिया।

मालूम हो कि बीती शाम बेनीपट्टी प्रखंड के रानीपुर मतरहरी गांव में बाढ़ के पानी के भारी दबाव से महराजी बांध दो जगहों पर टूट गया। इसके बाद गांव में तेजी से बाढ़ का पानी फैलने लगा। पानी के अपने घर में प्रवेश करते देख भयभीत डोमू सहनी व चूल्हिया देवी महाराजी बांध की ओर भागे।

बांध पर पहुंचने के कुछ ही देर बाद डोमू सहनी ने दम तोड़ दिया। पति को मृत पाकर करीब 10 मिनट के अंदर चूल्हिया देवी के भी प्राण-पखेरु उड़ गए। पति-पत्नी की इस तरह मौत के बाद वहां मातमी सन्नाटा छा गया। फिर, बांध पर शरण लिए लोगों के सहयोग से पुत्र झपसी सहनी ने बांध पर ही दोनों का अंतिम संस्‍कार कर दिया।

घटना की बाबत सीओ पुरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि डोमू सहनी व चूल्हिया देवी की मौत बीमारी से हुई है। परिजनों ने पोस्टमार्टम न करा शवों का अंतिम संस्कार कर दिया है। हालांकि, 10 मिनट के अंतराल में पति-पत्‍नी की बीमारी से मौत कैसे हो गई,  इस बाबत सीआे कुछ नहीं बता सके।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस