मधुबनी। समाहरणालय स्थित अपने कार्यालय प्रकोष्ठ में पुलिस अधीक्षक दीपक बरनवाल ने पुलिस पदाधिकारियों संग रविवार को क्राइम मी¨टग किया। इसमें एसपी ने लंबित कांडों, गंभीर कांडों की उछ्वेदन की स्थिति, गंभीर कांडों में गिरफ्तारियों की स्थिति, वाहन चे¨कग के दौरान वसूल किए गए जुर्माना समेत अन्य मामलों की गहन समीक्षा किया। इस दौरान उन्होंने पुलिस अफसरों को कई आवश्यक निर्देश भी दिए। पर्वों पर विधि-व्यवस्था बनाए रखने को लेकर रहें चौकस : एसपी ने इन्द्रपूजा, विश्वकर्मा पूजा, गणेश पूजा, मुहर्रम आदि के अवसर पर विधि-व्यवस्था एवं शांति-व्यवस्था बनाए रखने का सख्त निर्देश थानाध्यक्षों का दिया। कहा कि इसमें किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। एसपी ने कहा कि बिना लाइसेंस पूजा पंडालों का निर्माण नहीं होने पाए। लाइसेंस में ही विसर्जन रूट का भी उल्लेख होना चाहिए। असमाजिक व शरारती तत्वों तथा अफवाह फैलाने वाले तत्वों की पहचान कर विधिसम्मत कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया। चलाते रहें सघन वाहन चे¨कग अभियान, भारत बंद को लेकर भी रहें चौकस: वहीं 10 दिसंबर सोमवार को आहूत भारत बंद को लेकर भी विशेष चौकस रहने का निर्देश दिया। एसपी ने लगातार सघन वाहन चे¨कग अभियान चलाने का भी निर्देश दिया। वाहन चे¨कग के दौरान ट्रिपल लो¨डग मामले को गंभीरता से लेने को कहा। हेलमेट, वाहन संबंधी कागजात तथा डिक्की की जांच करने को भी कहा। इसके अलावा प्रत्येक थानाध्यक्षों को प्रत्येक माह एक गंभीर कांडों का स्पीडी ट्रायल कराने हेतु आवश्यक प्रक्रिया अपनाने का निर्देश दिया। इसके अलावा लंबित कांडों के निष्पादन में तेजी लाने, आसूचना संग्रह करने, सघन रात्रि गश्ती करने, दिवा व संध्या गश्ती पर भी विशेष ध्यान देने, गंभीर कांडों के अपराधियों को गिरफ्तार करने, वारंट व कुर्की का तामिला कराने, शराबबंदी कानून को सख्ती से लागू करने का भी निर्देश दिया। लापरवाह थानेदारों को निदंन की सजा, बेहतर परफारमेंस करने वाले थानेदार पुरस्कृत: वहीं एसपी दीपक बरनवाल ने बताया कि हत्याकांड का सही से अनुसंधान नहीं करने व हत्यारों को गिरफ्तार करने में लापरवाही बरतने के मामले में घोघरडीहा व फुलपरास थानाध्यक्षों को ¨नदन की सजा दी गई है। इन दोनों थानाध्यक्षों को शीघ्र हत्यारों को गिरफ्तार करने का निर्देश दिया गया है, अन्यथा कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा कर्तव्य निर्वहन में उदासीनता बरतने पर राजनगर, खजौली, कलुआही के थानाध्यक्षों को भी ¨नदन की सजा दी गई है। जबकि अच्छे कार्य करने पर मधेपुर, सकरी समेत आधे दर्जन थानों के थानाध्यक्षों को पुरस्कृत भी किया गया है।

Posted By: Jagran