मधेपुरा। बीएन मंडल विवि की ओर से सोमवार को नियुक्त किये गए लगभग 160 अनुकंपाधारी कर्मचारियों ने आक्रोशित हो अनिश्चितकालीन कलमबंद हड़ताल पर चले गए तथा विवि के सभी कार्यालयों को बंद कर दिया। विवि कुलपति की ओर से भेजे गए दो दूत प्रभारी कुलसचिव डॉ. कपिलदेव प्रसाद एवं महाविद्यालय निरीक्षक-विज्ञान डॉ. अरूण कुमार को प्रक्षेत्रीय कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों एवं अनुकंपाधारी कर्मियों ने स्पष्ट कहकर लौटा दिया कि जब तक विवि ऐसे कर्मियों को स्वीकृत रिक्त पद के विरूद्ध अधिसूचना जारी नहीं कर देता है तबतक हमलोग कलमबंद हड़ताल जारी रखेंगे।

----------------------------

क्या है मामला: बीएन मंडल विवि प्रषासन की ओर से वर्ष 2001 के अद्यतन लगभग 160 अनुकंपाधारी कर्मियों की नियुक्ति किया है। विडंबना यह है कि लगभग सभी कर्मियों को बिना पद पर ही नियुक्ति पत्र दे दिया गया फलस्वरूप अधिकांश कर्मियों को वर्षों से वेतन भुगतान नहीं हो रहा है। राज्य सरकार का स्पष्ट कहना है कि स्वीकृत एवं रिक्त पद पर ही वेतन भुगतान किये जायेंगे। इस मुद्दे को लेकर अनुकंपा कर्मियों ने परेशान होकर 19 अप्रैल को विवि मुख्य गेट पर धरना दे दिया तथा काम बंद कर दिया।जब कुलपति से इन कर्मचारियों की वार्ता हुई तो कुलपति ने कहा कि दो दिनों के अंदर स्वीकृत एवं रिक्त पदो के विरूद्ध अधिसूचना निर्गत कर दिये जाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पुन: सोमवार को सभी 160 अनुकंपाधारी कर्मियों ने कुलपति के आश्वासन के बावजूद भी अधिसूचना निर्गत नहीं होने पर कलमबंद हड़ताल पर चले गये तथा विवि कार्यालयों को बंद करा दिया। इतने में प्रक्षेत्रीय संघ के पदाधिकारियों ने धरनास्थल पर आकर अनुकंपाधारी कर्मचारी के समर्थन में हुंकार भड़ा।

------------------------------

विवि पदाधिकारियों को बैरंग लौटाया: जब कुलपति ने अपने विशेष दूत प्रभारी कुलसचिव डॉ. कपिलदेव प्रसाद एवं महाविद्यालय निरीक्षक डॉ. अरूण कुमार को वार्ता के लिए धरना स्थल पर भेजा तो सभी कर्मी उग्र हो गए तथा कुलपति एवं विवि पदाधिकारियों से वार्ता करने से मना कर दिया। अनुकंपाधारी कर्मियों एवं प्रक्षेत्रीय कर्मचारी संघ ने विवि प्रशासन को स्पष्ट अल्टीमेटम दिया कि जब तक स्वीकृत एवं रिक्त पदों के विरूद्ध अधिसूचना जारी नहीं होता है तब-तक कलमबंद हड़ताल जारी रहेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस