मधेपुरा। सरकार की पहली प्राथमिकता गांव, गरीब व किसान है। राज्य की 76 प्रतिशत आबादी कृषि पर निर्भर है। किसानों के हित में सरकार कई कल्याणकारी योजनाएं चला रही है। राज्य के किसान खुशहाल हैं। कृषि रोड मैप पर राज्य को राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला है। उक्त बातें कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने सोमवार को कृषि विज्ञान केंद्र में किसानों को संबोधित करते हुए कही। इससे पूर्व कृषि मंत्री ने प्रधानमंत्री कृषि योजना का शुभारंभ भी किया। किसानों को संबोधित करते हुए मंत्री ने कहा कि सरकार के आठ माह के कार्यकाल में कृषि आधारित कई कार्य हुए हैं। सरकार को इसमें बेहतर उपलब्धि भी मिल रही है। कृषि रोड मैप पर कार्य हो रहा है। सरकार किसानों को अनुदानित दर पर खाद बीज सहित कृषि यंत्र उपलब्ध करा रही है।

सरकार प्रयासरत है कि किसान की खेती को व्यापार जोड़ा जाय। उन्होंने कहा कि कौशल विकास योजना के माध्यम से किसानों का समूह बनाया जा रहा है। एक समूह में 30 किसान होंगे। इसमें महिला की भागीदारी 33 प्रतिशत सुनिश्चित की गई है। समूह के माध्यम से जैविक खेती को बढ़ावा दिया जाएगा। सरकार के सात निश्चय के तहत हर घर बिजली, हर घर नल का जल, गली नाली योजना, पीसीसी ढलाई सहित कई कार्य किए जा रहे हैं। मंत्री ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि किसानों की समस्याओं को देखते हुए सरकार राज्य के सभी पंचायतों में पंचायत कार्यालय बनाने जा रही है। एक हजार पंचायत में किसान भवन बनाए जा चुके हैं। बांकी पंचायतों में भी किराए पर पंचायत भवन खोले जाएंगें। जहां किसान सलाहकार एवं कृषि विभाग के पदाधिकारी लगातार पहुंच किसानों की समस्या सुनेंगें। किसानों को प्रखंड कार्यालय का चक्कर लगाना नहीं लगाना पड़ेगा।

कृषि मंत्री आपके द्वार के तहत गांवों में लगेगी चौपाल

कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने परिसदन में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि मंत्री आपके द्वार कार्यक्रम के तहत गांवों में चौपाल लगाई जा रही है। जहां किसानों से सीधे वार्ता कर किसानों की समस्याओं को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है। कृषि क्षेत्र में आपार संभावनाएं है। कृषि रोड मैप में 12 विभाग सम्मलित है। बिहार में पहली बार गेहूं, मक्का एवं धान उत्पादन में राष्ट्रपति गो¨वद के द्वारा राष्ट्रीय कृषि सम्मान से सम्मानित किया गया है। किसानों को एफपीओ के माध्यम से बेहतर प्लेटफॉर्म मिलेगा।

प्रथम चरण में 534 प्रखंड में एफपीओ बनाया जा रहा है। इसमें समूह के माध्यम से किसान जुड़ेंगे। 10 लाख लगाने पर 10 लाख का अनुदान सरकार देगी। राज्य के 38 जिलों में जैविक ग्राम बनाया जा रहा है। किसानों के प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही है। किसानों को भंडारण, बाजार एवं खेतों के पटवन के लिए बिजली की व्यवस्था की जा रही है। इस दौरान किसानों ने मशरूम व केला सहित अन्य फसलों की प्रदर्शनी भी लगाई। मंच का संचालन समीक्षा यदुवंशी ने किया। इस मौके पर विधायक निरंजन मेहता, भाजपा जिला अध्यक्ष स्वदेश यादव, जदयू जिला अध्यक्ष विजेंद्र कुमार यादव, भाजपा महिला अध्यक्ष मीनाक्षी बरनमाल, जिला कृषि पदाधिकारी यदुनंदन प्रसाद यादव, नीरज गुप्ता, रालोसपा जिला अध्यक्ष राजीव जौशी, कृषि वैज्ञानिक डॉ. मिथलेश कुमार, आत्मा के राजन बालन सहित अन्य मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस