संवाद सूत्र, पुरैनी (मधेपुरा) : पुरैनी प्रखंड की सभी नौ पंचायतों में दसवें चरण का मतदान बुधवार को समाप्त होने के बाद विभिन्न पदों पर चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी गुरुवार को अपने समर्थकों से बूथ वार वोट के आंकड़े इकट्ठे करने में जुटे हुए हैं। चौक-चौराहों, बस स्टैंड, चाय की दुकान व खेत-खलिहानों में भी कौन जीतेगा, किसे हार का मुंह देखना होगा इसी बात की चर्चा जारी है।

मालूम हो कि मतदान होने के बाद से ही कुरसंडी, सपरदह, औराय, नरदह, गणेशपुर, पुरैनी, बंशगोपाल, मकदमपुर व दुर्गापुर पंचायत में विभिन्न प्रत्याशी व उनके समर्थकों के बीच मतदान का जोड़-घटाव जारी रहा। बुधवार को चुनाव खत्म होने के बाद मतदाता अब भी अपनी चुप्पी बरकरार रखे हुए हैं। महीनों से रात-दिन अपने चहेते प्रत्याशी को जीत दिलाने की गारंटी दिलाने वाले छुटभैयों के अब आंकड़े देने में पसीने छूट रहे हैं। अक्सर ऐसा होता रहा है कि चुनाव के बाद लगभग मतदाता अपनी चुप्पी तोड़ देते थे और वोट का ध्रुवीकरण स्पष्ट हो जाया करता था। लेकिन इस बार मतदाता मतदान के बाद भी चुनाव प्रचार के समय की तरह लगातार अपनी चुप्पी बरकरार रखे हुए हैं। आलम यह है कि राजनीतिक पंडितों की भविष्यवाणी गलत होती नजर आ रही है। यद्यपि प्रत्याशी के हजारों-लाखों खर्च करवाने वाले छुटभैयों की पोल शुक्रवार को जिला मुख्यालय स्थित टीपी कालेज मधेपुरा में होने वाली मतगणना के बाद खुल जाएगी। पंचायत चुनाव के अधिकांश परिणाम चौंकाने वाले भी हो सकते हैं। मतों की गिनती जब-तक शुरू नहीं हो जाती है तब-तक अटकलों का बाजार गर्म रहेगा। मालूम हो कि कि प्रखंड क्षेत्र के सभी नौ पंचायत के 122 मतदान केंद्रों में कुल 251 विभिन्न पदों पर चुनाव कराए गए हैं। इन प्रत्याशियों के भाग्य ईवीएम में बंद है। इनमें दर्जनों दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है।

Edited By: Jagran