अति पिछड़ा चानन प्रखंड क्षेत्र की इटौन पंचायत मुख्यालय स्थित वार्ड संख्या तीन निवासी अमरजीत कुमार अपने नवविवाहित जीवन शुरू करने से पूर्व ही कोरोना से संक्रमित हो गया था। घर का माहौल ही बदल गया था। लोग डरने लगे थे लेकिन आत्मबल और मनोबल को गिरने नहीं दिया। घर में रहकर घरेलू नुस्खे के बल पर कोरोना को परास्त किया है। इसके बाद शादी की रस्म भी पूरी की गई।

अमरजीत कुमार कहते हैं कि उसकी शादी बीते 23 अप्रैल 21 को हुई। उसे लगा भीड़भाड़ में रहे हैं। कोरोना की आशंका को लेकर दांपत्य जीवन शुरू करने से पहले जांच करा लें। शादी करके 24 अप्रैल को घर आते ही उसी शाम को वह अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र मननपुर में कोरोना जांच कराया। रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। तुरंत उसने सदर अस्पताल लखीसराय के चिकित्सक से सलाह ली और होम क्वारंटाइन हो गया। एक कमरे में अकेले रहने लगा। समय-समय पर फल, काढा, गर्म पानी का सेवन करने लगा। साथ ही दिन में दो बार गर्म पानी का वाष्प लिया। विटामिन सी एवं डी की गोली चिकित्सक के दिशा-निर्देश पर लेते रहे। ठीक दस दिनों के बाद पुन: जांच कराई तो रिपोर्ट निगेटिव मिली। अमरजीत ने बताया कि हमें किसी प्रकार की कोई तकलीफ नहीं थी। सर्दी, खांसी, बुखार, शरीर में दर्द आदि कोई भी लक्षण नहीं था। फिर भी जांच कराई थी। संक्रमण के दौरान घर वालों के साथ-साथ मेरी नवविवाहिता पत्नी का भरपूर सहयोग मिला। वह समय-समय पर गर्म पानी, काढा, दूध हल्दी देने लगी। सुबह में टहने की आदत थी। कोरोना संक्रमण के कारण टहलना बंद कर दिया। अपने कमरे में भी योग एवं व्यायाम शुरू किया। इससे शरीर का इम्युनिटी पॉवर बरकरार रहा। करीब पांच से छह दिनों में ही शरीर में पहले से और मजबूती महसूस होनी लगी। अमरजीत का कहना है कि कोरोना में घबराने की जरूरत नहीं है। इससे डटकर मुकाबला करें और चिकित्सक के बताए अनुसार दवा लेते रहें।